हम भारतीयों को चटपटा और तीखा खाना बहुत पसंद है. तभी तो यहां कि हर गली में आपको वहां के किसी न किसी फ़ेमस स्ट्रीट फ़ूड का लुत्फ़ उठाते लोग दिखाई दे जाएंगे. इंडियन्स का ऐसा ही एक फ़ेवरेट स्ट्रीट फ़ूड है कचौड़ी, जिसे देश के कोने-कोने में बड़े ही चाव से खाया जाता है.

आज हम आपको कचौड़ी के इतिहास से जुड़ी टेस्टी राइड पर लेकर जाएंगे.

kachori
Source: pinterest

कचौड़ी का इतिहास सदियों पुराना है. इसका इतिहास जुड़ा है मारवाड़ियों से. वैसे तो इसके कोई साक्ष्य मौजूद नहीं हैं, लेकिन अधिकतर लोगों का यही मानना है कि इसकी खोज मारवाड़ यानी राजस्थान में ही हुई थी

kachori
Source: newstracklive

इसकी एक वजह कचौड़ी को बनाए जाने का तरीका है. मारवाड़ी लोग सीमित संसाधनों में भी गज़ब की रेसिपी या फू़ूड आइटम बनाने में माहिर होते हैं. इसलिए उन्होंने ही धनिया, हल्दी, सौंफ आदि से इसे बनाना शुरू किया था. इन तीनों मसालों को ठंडे मसाले में वर्गीकृत किया जाता है. ये मसाले हमारे शरीर को इस क्षेत्र के मौसम की मार से बचाने में सक्षम माने जाते हैं.

kachori
Source: archanaskitchen

इसका सबसे अच्छा उदाहरण जोधपुर की मोगर कचौड़ी जिसे किसी भी सीज़न में बड़ी ही आसानी से बनाया जा सकता है. प्राचीन व्यापार मार्ग मारवाड़ से होकर गुज़रता था. इसलिए वहां के बाज़ारों से निकलकर ये व्यापारियों के माध्य्म से पूरे देश में फैल गई. इसका स्वाद अब लोगों की ज़ुबां पर ऐसा चढ़ गया है कि बहुत से लोगों का ये फ़ेवरेट स्नैक बन गया है.

kachori
Source: zeenews

अब तो देश के हरेक राज्य में अलग-अलग नाम और प्रकार की कचौड़ियां चखने को मिलती हैं. इनमें राज कचौड़ी, मावा कचौड़ी, प्याज़ कचौड़ी, नागौरी कचौड़ी, बनारसी कचौड़ी, हींग कचौड़ी आदि के नाम शामिल हैं.

तो अगली बार जब कचौड़ी खाना तो मारवाड़ियों को थैंक्स कहना न भूलना.

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.