बचपन में आपने जंगल में रहने वाले टार्ज़न(Tarzan) की कहानी सुनी होगी. उस पर कई फ़िल्में भी बन चुकी हैं. टार्ज़न ऐसा शख़्स था जिसे जंगली जानवर बहुत प्यार करते थे और दोनों मुसीबत आने पर एक-दूसरे की मदद करते थे. मगर हम आपसे कहें कि एक रियल लाइफ़ टार्ज़न भी दुनिया में मौजूद तो शायद आपको इस बात पर यक़ीन न हो, लेकिन ये सच है.

thesun

हम बात कर रहे हैं वियतनाम के जंगलों में रहने वाले Ho Van Lang की, जिन्होंने अपने जीवन के 41 साल जंगल में बिताए हैं. वो यहां अपने पिता और भाई के साथ रहते थे. इस दौरान उन्होंने जंगल में मौजूद फल, शहद, मांस आदि को खाकर गुज़ारा किया. 

वियतनाम युद्ध के दौरान जंगलों में चले गए थे

ibtimes

दरअसल, 1972 में वियतनाम युद्ध के दौरान उनके घर पर हुए बॉम्ब अटैक में इनकी मां और भाई-बहन मारे गए थे. इसके बाद इनके पिता अपने दोनों बेटों को लेकर Tay Tra के घने जंगलों में चले गए थे. तीनों ने यहां जंगली जानवरों से बचते-बचाते पूरे 41 साल बिताए. इन्होंने जंगल में मौजूद संसाधनों से ही अपने रहने के ठिकाने और खाने-पीने के बर्तन बनाने शुरू कर दिए थे. 

ये भी पढ़ें: कभी जंगल को सांस लेते हुए देखा है? नहीं तो ये वीडियो देख लो, पर ज़रा संभल कर!

 2013 में इन्हें जंगल से किया गया था रेस्क्यू

pinimg

Ho Van Lang इतने बड़े हो गए हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं कि दुनिया में महिलाएं भी होती हैं. वो तो बस ये ही सोचते थे कि दुनिया में उनके अलावा बस जंगली जानवर ही हैं. 2013 में इन्हें जंगल से निकाल कर पास केही एक गांव में बसाया गया, जहां महिलाएं भी रहती थी. यहां वो आम लोगों के साथ सामाजिक तौर पर जीना सीख रहे हैं. 2015 में Alvaro Cerezo नाम के एक शख़्स जो लोगों को सुदूर इलाकों की सैर करवाते हैं, इस फ़ैमिली से मिले थे. 

छोटे बच्चे जैसा है दिमाग़  

mirror

इन्होंने इनके बारे बहुत सी रोचक जानकारियां मीडिया से शेयर की. इन्होंने बताया कि Ho Van Lang का दिमाग़ बिल्कुल छोटे बच्चे जैसा है. वो आज भी बच्चों की तरह रिएक्ट करता है. उसे महिलाओं के बारे में कुछ नहीं पता, शायद ही उसने कभी सेक्स किया होगा. उसका भाई अगर कह दे वो किसी को मारे तो वो उसे बुरी तरह पीट देता है.   

Ho Van Lang 8 साल से इस गांव में है, लेकिन अभी भी बोलता कम और इशारों में बात ज़्यादा करता है. उसके पिता का मानसिक संतुलन ठीक नहीं है. उन्हें लगता है कि अभी भी वियतनाम वार ख़त्म नहीं हुई है.