दुनिया के हर इंसान के लिए 'खाने-पीने' के साथ ही सोना (Sleep) भी बेहद ज़रूरी है. मानव शरीर के लिए ये तीनों ही चीज़ें बराबर मायने रखती हैं. शरीर को मज़बूत बनाने के लिए जिस तरह से 'खाना और पीना' बेहद ज़रूरी है ठीक उसी तरह शरीर को तंदुरस्त रखने के लिए 'सोना' भी उतना ही ज़रूरी है. सोना हमारे मानसिक और शारीरिक विकास के लिए बेहद आवश्यक है. इंसान बिना खाये 2 माह तक, जबकि बिना पानी पिये 7 से 10 दिन तक ज़िंदा रह सकता है, लेकिन सोने के मामले में ऐसा नहीं है.

ये भी पढ़ें- अगर किसी चींटी को 'बुर्ज ख़लीफ़ा' से नीचे गिराया जाए तो क्या होगा? जानिए परफ़ेक्ट साइंटिफ़िक जवाब

 सोना (Sleep)
Source: medicalnewstoday

डॉक्टरों के मुताबिक़, हर इंसान को प्रतिदिन 8 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए. नींद पूरी नहीं होने से दिल की बीमारियां, इम्यून सिस्टम का कमज़ोर होना, ब्रेस्ट कैंसर का रिस्क, हार्मोनल समस्याएं और निर्णय लेने की क्षमता क्षीण हो जाती है. नींद पूरी नहीं होने से दिमाग़ को आराम नहीं मिल पाता और इंसान तनाव, गुस्सा और डिप्रेशन में चला जाता है. इस दौरान सिर का भारी होना और सिर में तेज़ दर्द होना इसका मुख्य लक्षण है.

Source: huffpost

बिना सोये कितने दिन तक ज़िंदा रह सकता है इंसान?

हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो कोई भी स्वस्थ्य इंसान केवल 2 से 3 दिन ही बिना सोये ठीक से रह सकता है. चौथे से 5वें दिन के बीच इंसान बेचैनी महसूस करने लगता है. 5वें से 11वें दिन के बीच बेचैनी इस कदर बढ़ जाती है कि इंसान पागलों की तरह हरकत करने लगता है. वो ज़ोर ज़ोर से चीखने और चिल्लाने लगता है. अगर कोई इंसान लगातार 12 दिन तक नहीं सोता है तो उसकी मौत हो सकती है.

Source: greatergood

The Russian Sleep Experiment

इंसान बिना सोये (Sleep) कितने दिनों तक ज़िंदा रह सकता है इसका पता लगाने के लिए सन 1940 में 'द्वितीय विश्व युद्ध' के दौरान सोवियत संघ (रूस) ने 5 युद्ध बंदियों पर एक प्रयोग किया था. इसके तहत इन पांचों क़ैदियों को 30 दिन तक एक कमरे में बंद करके रखना था और शर्त ये थी कि जो भी 30 दिन तक जगता रहा उसे आज़ाद कर दिया जायेगा, लेकिन इस एक्सपेरिमेंट का रिजल्ट बेहद भयानक था.

Source: historycollection

ये भी पढ़ें- जानिये अंतरिक्ष में किसी Astronaut की मौत होने पर उसकी 'डेड बॉडी' का क्या किया जाता है?

कैसे किया गया था एक्सपेरिमेंट?

इस एक्सपेरिमेंट के तहत इन 5 क़ैदियों को एक बड़े से कमरे में रखा गया था. इस कमरे में उनको खाने, पीने और पढ़ने से लेकर हर तरह की सुविधाएं दी गई थीं, लेकिन उनके सोने या बैठने की कोई व्यस्था नहीं थी. इन क़ैदियों को जिस कमरे में रखा गया उसमें दो वन वे विजन वाले शीशे भी लगाये गये थे ताकि उन पर नज़र रखी जा सके. इस दौरान कैदियों को नींद ना आए इसके लिए थोड़े-थोड़े अंतराल के बाद उस कमरे में एक 'एक्सपेरिमेंटल गैस' भी छोड़ी जाती थी.

Source: medium

क्या था एक्सपेरिमेंट का नतीजा?

इस दौरान शुरुआत के 2-3 दिनों तक तो क़ैदियों में कोई बड़ा परिवर्तन देखने को नहीं मिला, लेकिन 5वें दिन के बाद से क़ैदियों में बेचैनी बढ़ने लगी. 9वें दिन तक आते-आते सभी क़ैदी पागलों की तरह चिल्लाने लगे थे. इस दौरान वो इतनी ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाते थे कि इनमें से कुछ की 'वोकल कॉर्ड' तक फट चुकी थी. ये क़ैदी अजीब-ग़रीब तरह से चिल्लाते और मन ही मन बड़बड़ाने लगते थे. 10वें दिन बाद क़ैदियों का कमरा पूरी तरह से शांत हो गया.

Source: huffpost

इस दौरान रिसर्च टीम ने जब एक क़ैदी से बात करनी चाही तो उसने ने मना कर दिया और बोला की वो आज़ाद नहीं होना चाहता, बल्कि मरना चाहता है. ये सुनकर जब रिसर्च टीम कमरे के अंदर गई तो उन्होने देखा कि कमरे में चारों तरफ़ खून और मांस के लोथड़े पड़े हुए थे. जो खाना कैदियों को दिया गया था वो खाना उन्होनें छुआ तक नहीं था. इस दौरान सारे क़ैदी बुरी तरह लहूलुहान थे और वो एक दूसरे के मांस के टुकड़े खा रहे थे.

Source: pinterest

ये भी पढ़ें- जानिए अगर आप गाड़ी के अंदर फंस गए हैं और गाड़ी पानी में डूब रही है, तो बाहर कैसे निकलेंगे?

ये नज़ारा देख रिसर्च टीम के होश उड़ गए और उन्होंने सभी क़ैदियों को तुरंत बाहर निकाला. इस दौरान 2 क़ैदी बाहर आने को तैयार ही नहीं थे. इस दौरान बड़ी मुश्किल से उन क़ैदियों को मार्फिन के 8 इंजेक्शन लगा कर काबू में किया गया. लेकिन इलाज़ के दौरान 3 क़ैदियों की मौत हो गई जबकि बाकी दो क़ैदियों को वापस उसी कमरे में बंद कर दिया गया. 

Source: nzherald

इतना सब कुछ होने के बावजूद भी चीफ़ कमांडर इस एक्सपेरिमेंट को जारी रखना चाहता था. इसलिए उसने 3 रिसर्चर की एक टीम को उन बचे हुए 2 क़ैदियों के साथ रखा ताकि वो इनपर नज़र रख सकें. लेकिन दोनों क़ैदियों की हरकतों की वजह से एक रिसर्चर बहुत बुरी तरह डर गया और उसने बाकी दोनों क़ैदियों को गोली मार दी. इस घटना के बाद ये एक्सपेरिमेंट रोक दिया गया. 

Source: imdb

साल 2009 में इस एक्सपेरिमेंट की पूरी जानकारी Creepypasta Wiki वेबसाइट में प्रकाशितहुई थी. हालांकि, रूस ने ऐसे किसी भी एक्सपेरिमेंट के दावे को ख़ारिज़ कर दिया था.

ये भी पढ़ें- Safety Tips: पानी में डूबने की स्थिति में इन 13 आसान तरीक़ों से बचा सकते हैं अपनी और दूसरों की जान