हम जिस दौर में जी रहे हैं, वहां अनजान आदमी के लिए घर का दरवाज़ा खोलना तो दूर लोग उन्हें घर के सामने खड़ा तक नहीं होने देते. ऐसे वक़्त में हैदराबाद के एक डॉक्टर ने अपने घर और दिल दोनों का दरवाज़ा ज़रूरतमंद लोगों के लिए खोल रखा है. डॉ. सूर्य प्रकाश (Dr. Surya Prakash) का घर एक 'ओपन हाउस' (Open House) है, जहां हर ज़रूरतमंद जाकर अपने लिए खुद खाना बना और खा सकता है, आराम कर सकता है और किताबें पढ़ सकता है.

Dr. Surya Prakash
Source: thebetterindia

ये भी पढ़ें: दान सिंह 'मालदार': घी बेचने से लेकर उत्तराखंड का पहला अरबपति बनने तक, प्रेरणादायक है ये कहानी

डॉ. प्रकाश की इस पहल को 'अंदरी इल्लू' (Andari Illu Hyderabad) कहते हैं, जिसका मतलब 'सभी का घर' है. साल 2006 से ही उनके घर के दरवाज़े समाज के सभी वर्ग के लोगों के लिए खुले हैं.

इस ओपन हाउस में चाहें कोई परीक्षा के लिए शहर में आने वाले छात्र हों या रोटी और कपड़े की तलाश में भटकता कोई शख़्स, जिसे भी ज़रूरत हो वो यहां आकर खाना बना-खा सकता है, आराम कर सकता है और किताबें पढ़ सकता है. एक बार जब आप परिसर में प्रवेश करते हैं, तो आप दोनों तरफ बुकशेल्फ़ से घिरे होंगे. प्रकाश यहां बर्तन, चावल, तेल, रसोई गैस, दालें और सब्ज़ियां भी देते हैं, ताकि लोग अपना भोजन स्वयं तैयार कर सकें.

Books
Source: thebetterindia

कभी ख़ुद थे ज़िंदगी से निराश, मगर फिर दूसरों के लिए बने मिसाल

डॉ प्रकाश ने 1983 में अपनी बहन को हार्ट प्रॉब्लम और अपने दोस्त को एक सड़क दुर्घटना में खो दिया. उस वक़्त उनकी उम्र महज़ 18 साल थी. इस घटना ने उन्हें काफ़ी परेशान कर दिया. वो ज़िंदगी से निराश हो गए. उन्हें लगा कि जब मरना ही है तो फिर हम जिये ही क्यों? हालांकि, उन्होंने ख़ुद को संभाला और डॉक्टरी की पढ़ाई की और नौकरी के साथ-साथ सामाजिक कार्य करने लगे. मगर उनका इसमें दिल नहीं लगा. धार्मिक और बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम पर चलने वाले NGO उन्हें रास नहीं आए.

वो दिखाना चाहते थे कि धार्मिक कार्ड या कॉर्पोरेट धन के बिना भी समाज सेवा की जा सकती है. ऐसे में साल 1999 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने दो मंज़िला घर में एक NGO शुरू किया. उसके बाद साल 2006 में उन्होंने अपनी पत्नी कामेश्वरी संग मिलकर इसे ओपन हाउस (Open House) बना दिया. 

Hyderabad Couple
Source: newindianexpress

डॉ प्रकाश कहते हैं-

हमने देखा कि समाज के बीच कनेक्शन टूट रहा है और इंसान दूसरों के प्रति असंवेदनशील होता जा रहा है. ऐसे में हमने हर ज़रूरतमंद की मदद करने का फ़ैसला किया. यहां कोई भी सुबह 5.30 बजे से दोपहर 1 बजे के बीच आ सकता है. चाहे वो शहर में नया व्यक्ति हो, छात्र हो, भूखा हो या फिर कपड़ों या आश्रय की आवश्यकता हो, कोई भी मुफ्त में सुविधाओं का लाभ उठा सकता है.

डॉ. प्रकाश बताते हैं कि पुलिस की कुछ रिस्ट्रिक्शन हैं, जिसके चलते रात में लोगों के ठहरने पर मनाही है.

अब तक 1 लाख लोगों की कर चुके हैं मदद

पिछले 16 साल से ये ओपन हाउस (Open House) हर साल के 365 दिन खुला रहता है. कोविड महामारी के दौरान भी ये काम करता रहा था. डॉ. प्रकाश का कहना है कि इससे अब तक करीब 1 लाख लोगों को फायदा हो चुका है. 

Open House
Source: newindianexpress

डॉ प्रकाश कहते हैं कि 'इस ओपन हाउस का उद्देश्य ही है कि कोई भूखा न रहे. जब किसी को भूख लगे, तो वो यहां आ सकता है. किताबें पढ़ सकता है. जब ज़रूरतमंद लोग यहां से मुस्कुराते हुए वापस जाते हैं, तो हमें बेहद ख़ुशी होती है.'