कोरोनाकाल में अब कुछ भी पहले जैसा नहीं रहा है. कई कारोबार चरमरा गए हैं तो कुछ ने आने वाले समय के हिसाब से ख़ुद को ढालना शुरू कर दिया है.  

शादी उद्योग ने तो अभी से ही बदलते समय के अनुसार नए तौर-तरीक़ों को अपना लिया है. वो तरीक़े जिसमें शादी के मज़े के साथ-साथ स्वास्थ्य और सुरक्षा के मापदंडों का भी ख़ास ध्यान रखा जा रहा है.  

स्वास्थ्य और सुरक्षा के उपाय 

कोरोना काल में सबसे ज़्यादा ज़रूरी है की हर चीज़ सेनिटाइज़ रहनी चाहिए. इसके लिए शादियों में सेनिटाइज़ेशन फैंस लगवाए जाएंगे ताकी आने वाला हर मेहमान आसानी से सेनिटाइज़ हो सके. इसके साथ ही हर मेहमान को एक स्वच्छता किट भी दी जाएगी.  

सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान  

भारत की शादियों में सोशल डिस्टेंसिंग करना सबसे बड़ी चुनौती है. FB Celebrations के सह संस्थापक, भावनेश सौहनी का कहना है, 'हम थिएटर सीटिंग या सर्कुलर (गोले में) सीटिंग जैसी अधिक रचनात्मक बैठने की व्यवस्था की भी उम्मीद कर सकते हैं. जिससे आपके मेहमान समारोह और जोड़े दोनों का 360 डिग्री का दृश्य देख सकते हैं. सामाजिक दूरी बेहद ज़रूरी है इस वजह से हर मेज पर कुर्सियों को 6 फ़ीट की दूरी पर रखा जाएगा.'  

बाल और मेकअप 

आप शादियों के लिए बन रहे स्पेशल मास्क से तो वाक़िफ़ होंगे ही. अब इन मास्क की वजह से दुल्हन की आंखों और बालों पर ज़्यादा ध्यान दिया जाएगा. इसके साथ ही जो भी टीम दुल्हन का मेक-अप करेगी वो मास्क, फ़ेस शील्ड और PPE किट के साथ सभी ज़रूरी सुरक्षा ले मापदंडों का ध्यान रखेगी.     

पालियों में समारोह  

जिन लोगों की शादी विवाह में कई लोग हैं उनके लिए भी उपाय है. दूल्हा-दुल्हन अपनी शादी की सभी रस्में और समारोह उसी तरह जारी रख सकते हैं सिर्फ मेहमान पाली या शिफ़्ट के हिसाब से आएंगे ऐसा करने से सब शादी समारोह का मज़ा भी उठा सकते हैं और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन हो जाएगा.  

खाने-पीने का आयोजन  

कई वेन्यू मालिकों का कहना है कि वो बुफ़े की जगह अब बैठ कर खाने देने की योजना ही अपनाएंगे. इसका मतलब न तो लोग खाने के लिए लाइन लगाएंगे और न ही भीड़ होगी.  

पुनीत छतवाल, एमडी और सीईओ, इंडियन होटल्स कंपनी (IHCL) कहते हैं, “रेस्तरां और भोज क्षेत्रों में कम टेबल होंगी और सभी सेल्फ़-सर्विंग बफ़ेट्स अभी के लिए निलंबित हैं. मेनू काफ़ी हद तक डिजिटल या एकल उपयोग वाले होंगे, जिसमें स्वास्थ्यवर्धक भोजन के लिए वेलनेस ओरिएंटेड फ़ूड सेक्शन और इम्यूनिटी बढ़ाने पर ज़ोर दिया जाएगा. ” 

शादी समारोह के लिए जगह  

आने वाले समय में लोग खुली जगह पर शादी समारोह करना ज़्यादा पसंद करेंगे. ऐसा करने से लोगों में एक सीमित जगह पर होने की संभावना घटेगी. हालांकि, खुली जगहों में प्रकृति के तत्वों से लड़ना एक मुश्किल होगी लेकिन ये बैठने की व्यवस्था के साथ सामाजिक दूरी की परेशानी को भी सुलझाता है. 

सबकुछ डिजिटल  

समय, पैसा, ऊर्जा और सबसे बड़ा अधिक से अधिक बहार निकलने से बचने के लिए कपल्स काफ़ी रचनात्मक हो रहे हैं. वो ई-आमंत्रण के साथ-साथ ख़ुद की शादी की वेबसाइट भी बना रहे हैं. इन डिजिटल निमंत्रण कार्डों को ईमेल और व्हाट्सएप कर मेहमानों को शादी की वेबसाइट के लिंक के साथ भेजा जा सकता है.  

The Knot World Wide ने भारत और दुनिया भर में शादियों पर Covid -19 के प्रभाव को समझने के लिए एक सर्वे किया है जिसमें उन्होंने यह पाया कि अधिकांश जोड़े अपनी शादी को लेकर सकारात्मक हैं और बुकिंग (विश्व स्तर पर 92%, भारत में 82%) को रद्द नहीं कर रहे हैं. बचे हुए कपल अपनी शादी साल के आख़िर में या 2021 में पुनर्निर्धारित कर रहे हैं. भारत में 73% जोड़े अपनी शादी के मेहमानों की लिस्ट में कोई बदलाव नहीं कर रहे हैं.