भारत में हर चीज़ में विविधता है. जिस तरह हर जगह का कल्चर अलग होता है रीति-रिवाज़ अलग होते हैं. वैसे ही हर जगह का अपना लोक नृत्य होता है, जिसका अपना महत्व होता है. अगर आपको डांस का शौक़ है, तो इन फ़ोक डांस के बारे में ज़रूर पता होना चाहिए.

ये रहे वो फ़ोक डांस:

1. नाटी, हिमाचल प्रदेश

Source: danceask

हिमाचल प्रदेश के लोक नृत्य, नाटी डांस का नाम गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे बड़े लोक नृत्य के रूप में दर्ज है. पूरे हिमाचल प्रदेश के साथ-साथ चंडीगढ़ में भी बहुत लोकप्रिय है.

2. रासलीला, उत्तर प्रदेश

Source: fundabook

रासलीला या रास नृत्य भगवान कृष्ण को समर्पित है और राधा के साथ कृष्ण की पारंपरिक कहानी का हिस्सा है, जो उत्तर प्रदेश के मथुरा और वृंदावन में लोकप्रिय है.

3. राउत नाचा, छत्तीसगढ़

Source: youtube

राउत नाचा एक लोक नृत्य है, जो मुख्य रूप से यादवों द्वारा भगवान कृष्ण की पूजा के प्रतीक के रूप में किया जाता है. नृत्य की शुरुआत छत्तीसगढ़ राज्य से हुई और राज्य का एक बहुत लोकप्रिय आदिवासी नृत्य, देव उधनी एकादशी के दौरान किया जाता है.

4. मटकी डांस, मध्य प्रदेश

Source: fundabook

मध्य प्रदेश का मटकी नृत्य शादियों और जन्मदिन के दौरान महिलाओं द्वारा किया जाता है. ये नृत्य ज़्यादातर मध्य प्रदेश के खानाबदोश जनजातियों द्वारा मालवा क्षेत्र में किया जाता है.

5. डमहल, जम्मू और कश्मीर

Source: danceask

जम्मू और कश्मीर में रऊफ़ जनजाति द्वारा प्रस्तुत डमहल को रफ़ फ़ोल्ड डांस भी कहा जाता है.

6. डांडिया, गुजरात

Source: tourmyindia

गरबा या डांडिया रास गुजरात का एक और सबसे लोकप्रिय पारंपरिक लोक नृत्य रूप है. गरबा के साथ डांडिया नृत्य भी गुजरात में नवरात्रि का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है.

7. गरबा, गुजरात

Source: tadtoonew

गरबा, माता की मूर्ति और जलते हुए दीपक के सामने नवरात्रि के त्योहार के दौरान किया जाता है. ये टोडी मॉर्ड गरबा, डांडिया रास से प्रभावित है दोनों में ही बहुत ज़्यादा एनर्जी की ज़रूरत होती है.

8. गिद्दा, पंजाब

Source: news

गिद्दा पंजाब में महिलाओं का सबसे लोकप्रिय लोक नृत्य है, जिसे उत्सव या सामाजिक अवसरों के दौरान किया जाता है.

9. भांगड़ा, पंजाब

Source: thefold

भांगड़ा की उत्पत्ति पंजाब के माझा क्षेत्र से हुई है. ये बैसाखी के उत्सव पर किया जाता है. ये पंजाब के पारंपरिक नृत्यों में से एक है. इसके अलावा सैमी, गिद्दा, किक्ली, जुगनी, जागो और गतका के साथ ही भारतीय मार्शल आर्ट हैं.

10. बागुरूम्बा, असम

Source: danceask

असम में बोडू जनजाति का बागुरूम्बा लोक नृत्य एक और पारंपरिक नृत्य है, जो बोडो महिलाओं द्वारा अपनी रंगीन वेशभूषा के साथ किया जाता है. ये बोडो लोगों का पारंपरिक नृत्य है, जिसमें अन्य महत्वपूर्ण नृत्य जैसे सीकरी नृत्य, दोसरी डेलई नृत्य और बर्दिविसिखला नृत्य शामिल हैं.

11. घूमर, राजस्थान

Source: pinterest

घूमर राजस्थान का पारंपरिक लोक नृत्य है, जिसे अकसर विशेष अवसरों और धार्मिक अवसरों पर किया जाता है.

12. बिहु, असम

Source: india

बिहु नृत्य असम का लोक नृत्य है, जो बिहू के त्योहार के दौरान एक समूह में किया जाता है और असम संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. बोहाग बिहु या रोंगाली बिहु, कटि बिहु, माघ बिहु या भोगाली बिहु असम के तीन महत्वपूर्ण धार्मिक त्योहार हैं. रोंगाली बिहु इन तीनों में सबसे महत्वपूर्ण है.

13. लावणी, महाराष्ट्र

Source: quora

महाराष्ट्र का लावणी लोक नृत्य पारंपरिक गीत, वाद्य, शक्तिशाली ताल और नृत्य का संयोजन है. पारंपरिक रूप से महिलाएं भारी आभूषण, जूड़ा, लाल रंग की बिंदी और साड़ी पहनकर लावणी करती है.

14. कालबेलिया, राजस्थान

Source: youtube

कालबेलिया को कबीलिया भी कहा जाता है जो राजस्थान का एक पारंपरिक नृत्य है और उनकी कालबेलिया संस्कृति का अभिन्न अंग है.

15. चेराव डांस, मिज़ोरम

Source: youtube

चेराव नृत्य मिज़ोरम का एक सांस्कृतिक और पारंपरिक नृत्य है. इसमें लोगों का ग्रुप ज़मीन में बैठकर बांस लेकर डांस करता है. Beating Bamboos Dance मिज़ोरम का सबसे प्रसिद्ध नृत्य है और हर अवसर पर किया जाता है.

16. थेयम, केरल

Source: societymag

थेयम, डांस और संगीत का संयोजन है जिसमें ड्रमर, मेकअप और अनुष्ठान गीत शामिल हैं. लगभग 400 प्रकार के थेयम हैं, काठिवनूर वीरन थेयम केरल में सबसे प्रसिद्ध थेयम में से एक है.

ये भारत है यहां हर चीज़ इंद्रधनुषी है. Lifestyle से जुड़े और भी आर्टिकल पढ़ने के लिए क्लिक करें.