Interesting Facts About Flight Attendant: फ़्लाइट में ट्रैवल करने के लिए एयरपोर्ट में एंटर करना पड़ता है. एयरपोर्ट में इम्पोर्टेड लग्ज़री ब्रांड्स के अलावा सुंदर-सुंदर एयरहोस्टेस और फ़्लाइट अटेंडेंट भी देखने को मिलती हैं. फ़्लाइट अंटेडेंट को देखते समय कभी उनके छोटे से क्यूट से ट्रॉली बैग में नज़र गई है. इस छोटे से बैग में उनका बहुत ज़रूरी सामान होता है. फ़्लाइट अटेंडेंट का काम फ़्लाइट में ट्रैवल करने वाले पैसेंजर की सुविधाओं के लिए रखा जाता है. इन्हें केबिन क्रू के नाम से भी जाना जाता है. फ़्लाइट में केबिन क्रू के होने से किसी भी पैसेंजर को कोई भी परेशानी नहीं होती है. इनका काम ही होता है कि पैसेंजर को फ़्लाइट में घर जैसा फ़ील कराएं.

Interesting Facts About Flight Attendant
Image Source: airlinecareer

ये आपको तो घर जैसा फ़ील करा देती हैं, लेकिन इनके पास ख़ुद घर जाने का टाइम नहीं होता है. इसलिए ये अपने साथ चोटू सा बैग रखती हैं, जिसमें वो सब ज़रूरी सामान होता है, जिसकी इन्हें कभी-भी ज़रूरत पड़ सकती है.

Interesting Facts About Flight Attendant
Image Source: api

चलिए जानते हैं आख़िर क्या-क्या होता है इस बैग में?

Interesting Facts About Flight Attendant

ये भी पढ़ें: Interesting Fact About Airhostess: जानिए क्यों फ़्लाइट में एयर हॉस्टेस चाय-कॉफ़ी नहीं पीती हैं

Qatar Airways की Senior Flight Attendant नेहा सिंह का कहना है कि,

SEP Manual भारत की एयरलाइंस में सबसे ज़्यादा ज़रूरी होता है क्योंकि जब DGC (Directorate General of Civil Aviation) ऑडिट करता है तो वो सेफ़्टी मैनुअल को चेक करता है. उसके अलावा, एक फ़ॉर्मल रखते हैं, जैसे कुछ मेरे ऊपर गिर गया या मैं जल गई तो उसे चेंज कर लूंगी और वैसे ही फ़्लाइट में रहूंगी. फ़ॉर्मल के अलावा, एक एक्सट्रा यूनिफॉर्म होती है. शूज़ का एक्स्ट्रा पेयर होता है क्योंकि हम लोग ऑन-ग्राउंड हील्स पहनते हैं और Take Off के वक़्त शूज़ पहनते हैं. मेकअप किट और इनर वियर्स होते हैं. साथ ही, इम्पॉर्टेंट डाक्यूमेंट भी होते हैं.

भारत से बाहर की एयरलाइंस के बारे में भी उन्होंने बताया,

हमारी एयरलाइन में मैनुअल Mandatory नहीं है. हम एक जोड़ी फ़ॉर्मल कपड़े, एक जोड़ी एक्सट्रा यूनिफ़ॉर्म, फ़्लैट शूज़, मेकअप-किट और एप्रेन जिसे हमारी एयरलाइन में डायनिंग जैकेट कहते हैं. इसके अलावा, Mandatory Documents होते हैं. कुछ लोग इस बैग में अपना खाना, पानी, चाय और कॉफ़ी भी लेकर चलते हैं.

नेहा ने ये भी बताया कि मैनुअल को किस वजह से Mandatory नहीं किया गया है

दरअसल, मैनुअल को कुछ लोगों ने डिजिटल फ़ॉर्म में कर दिया है, जो एक एयरलाइन की सेफ़्टी को ध्यान में रखते हुए कहीं हद तक ठीक नहीं है. इससे किसी भी एयरलाइन की ज़रूरी बातें बाहर जा सकती हैं. इसलिए कुछ एयरलाइंस में डिजिटल हुआ है तो कुछ एयरलाइंस आज भी हार्ड कॉपी को ही मान्यता देती हैं.

1. पासपोर्ट (Passport)

फ़्लाइट अटेंडेंट के पास पासपोर्ट होना सबसे ज़्यादा ज़रूरी होता है. इसके बिना इन्हें ऑफ़िस में एंट्री नहीं मिलती है.

Passport
Image Source: gadgets360cdn

2. पजामा (Pajamas)

फ़्लाइट अटेंडेंट को अपने कंपनी से क्रू पजामा पैक दिया जाता है, जिससे कभी वो लंबी फ़्लाइट में हैं तो रेस्ट टाइम में उस पजामे को पहन सकें. इस पजामे को इसलिए कंपनी देती है ताकि ज़रूरत पड़ने पर फ़्लाइट अटेंडेंट को आसानी से पहचाना जा सके, चाहे वे सो रहे हों या नहीं.

Pajamas
Image Source: travelupdate

3. Oven Gloves

ओवन से गर्म खाने को निकालने के लिए उन्हें Oven Gloves का इस्तेमाल करना होता है ताकि वो जले नहीं.

Oven Gloves
Image Source: bobvila

4. Tabard or Waistcoat

काफ़ी देर तक फ़्लाइट में रहने के चलते टाइट ब्लेज़ पहनने से दिक्कत होने लगती है, इसलिए ज़्यादातर फ़्लाइट अटेंडेंट Tabard or Waistcoat पहनना चुनती हैं.

Tabard or Waistcoat
Image Source: alicdn

5. Flat Shoes

फ़्लाइट अटेंडेंट अपने बैग में हमेशा दो जोड़ी जूते रखते हैं, एक हील और दूसरे फ़्लैट. इसलिए जैसे ही फ़्लाइट Take Off होती है वो फ़्लैट शूज़ पहन लेते हैं, जिससे वो हील्स पहनने से होने वाली समस्या से थोड़ी देर के लिए ख़ुद को बचा पाती हैं.

Flat Shoes
Image Source: yimg

6. SEP Manual

फ़्लाइट अटेंडेंट के पास Safety and Emergency Procedures (SEP) होता है. इसके तहत, गंभीर चिकित्सा आपात स्थिति से निपटने से लेकर अन्. किसी दुर्घटना से निपटने का सुझाव होता है. इसमें सब कुछ Step-By-Step होता है. ज़्यादातर एयरलाइंस ने SEP Manual को iPad में स्थानांतरित कर दिया है, जिससे पैसेंजर को और फ़्लाइट अटेंडेंट को आसानी से चीज़ों के बारे में पता हो सके.

SEP Manual
Image Source: etsystatic

7. Up-to-Date Licenses

फ़्लाइट अटेंडेंट को कई सुरक्षा प्रक्रियाओं और फ़्लाइट के दौरान होने वाली मेडिकल इमरजेंसी के बारे में भी ट्रेनिंग दी जाती है. इस ट्रेनिंग को पूरा करने के बाद उन्हें लाइसेंस मिलता है. उस Up-Tp-Date लाइसेंस को केबिन क्रू को अपने पास रखना ही होता है अगर कोई भूल जाती हैं तो उन्हें फ़्लाइट से हटा दिया जाता है.

Up-to-Date Licenses
Image Source: alison

फ़्लाइट अटेंडेंट को अपने Hectic Schedule के चलते इन बैग्स को डेली रूटीन में ले जाना ज़रूरी होता है.