साल 2014 में भारत ने मंगल ग्रह पर पहली ही कोशिश में अंतरिक्ष यान भेजकर इतिहास रच दिया था. इससे पहले अमेरिका, रूस और यूरोपीय संघ ये काम कर चुके थे. कई फ़िल्में भी इस ग्रह पर बनाई जा चुकी हैं. लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि मंगल(लाल ग्रह) में ऐसा क्या है, जो दुनियाभर की स्पेस एजेंसी इसे एक्सप्लोर करने में लगी हैं. नहीं?

लाल ग्रह से संबंधित ये फ़ैक्ट जानकर शायद आपको इस सवाल का जवाब मिल जाएगा.

Source: on-desktop.com

1. मंगल ग्रह को लाल ग्रह कहने के पीछे यहां अधिक मात्रा में पाए जाने वाले iron oxide का हाथ है. यहां की मिट्टी और पहाड़ इसी से बने हैं, इसलिए ये लाल रंग का दिखाई देता है.

2. सूर्य से कम दूर होने के कारण यहां का तापमान बहुत कम है. इसकी भूमध्य रेखा पर मंगल ग्रह का तापमान 20 डिग्री और ध्रूवों पर -140 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है.

3. पृथ्वी पर आपको कई जगह मंगल ग्रह के टुकड़े मिल जाएंगे. ये उल्कापिंडो के साथ धरती पर पहुंचे हैं.

Source: Space.com

4. इस ग्रह पर सौरमंडल का सबसे ऊंचा पहाड़ मौजूद है, जिसकी ऊंचाई लगभग 24 किलोमीटर है. ये माउंट एवरेस्ट से 3 गुना ज़्यादा बड़ा है.

5. यहां का एक दिन 24 घंटे 37 मिनट का होता है. ये पृथ्वी के दिन के लगभग बराबर है.

6. इस ग्रह का एक वर्ष हमारे 687 दिनों के बराबर है. ऐसा इसलिए क्योंकि मंगल ग्रह को सूर्य का एक चक्कर काटने में पृथ्वी की तुलना में अधिक समय लगता है.

Source: TurboSquid

7. 1976 में इस ग्रह पर Viking Landers नाम का पहला अंतरिक्ष यान भेजा गया था. लेकिन अभी तक कोई भी स्पेस एजेंसी वहां तक इंसानों को पहुंचाने में कामयाब नहीं हुई है.

8. इस ग्रह के पास Phobos और Deimos नाम के दो चांद हैं. ये दोनों क्षुद्रग्रह हैं जो आने वाले 30-50 मिलियन वर्षों में उसकी सतह पर गिर सकते हैं.

9. मंगल ग्रह की गुरुत्वाकर्षण शक्ति बहुत कमजोर है. इसलिए आपको यहां पर उछलने पर अधिक आनंद की अनुभूती हो सकती है.

Source: relife.ro

10. यहां पर पानी के मिलने की संभावना है. इसकी दक्षिणी ध्रुवीय बर्फ़ीली सतह के पास झील के होने के संकेत मिले हैं.

11. पृथ्वी की तुलना में आपको मंगल ग्रह पर सूर्य लगभग आधे आकार का दिखाई देता है.