गोलगप्पे, पानीपूरी, पुचका, बताशे... किसी भी नाम से बुलाओ इन्हें मगर टेस्ट और फ़ीलिंग एक ही आती है. चाहे पेट भरा हो या फिर खाने का मूड न हो पानी के बताशे खाने के लिए किसी से भी पूछो मना नहीं कह पाएगा. भारत की हर गली-नुक्कड़ पर इस स्ट्रीट फ़ूड/स्नैक के ठेले लगे मिल जाएंगे. 

लेकिन जिस पानीपूरी को आप बड़े ही चाव से गप्प कर जाते हैं, क्या आप उसका इतिहास जानते हैं? तो पेश है जनाब गोलगप्पे लवर्स के लिए इसका इतिहास फ़ुल प्लेट नहीं-फ़ुल डिटेल्स के साथ.

golgappa
Source: pinterest

गोलगप्पे का आविष्कार किसने किया इसे लेकर कई कहानियां हैं. वो सभी हम आपको बताते हैं. पहली कहानी महाभारत से जुड़ी है. जब पांडव वनवास काट रहे थे तब उन्हें बहुत कम ही संसाधनों के साथ गुज़र-बसर करना होता था. ऐसे में कुंती माता ने अपनी नववधू द्रौपदी की परीक्षा लेनी चाही.

ये भी पढ़ें: चाट-गोलगप्पे या देसी नूडल्स के लिए तरस रहे हैं तो इन 11 रेसिपीज़ से घर पर बनाएं देसी स्ट्रीट फ़ूड

draupadi
Source: patrika

उन्होंने द्रौपदी को बची हुई आलू की सब्ज़ी और एक पूरी का आटा दिया और कहा कि कुछ ऐसा बनाओ की जिससे पांचों पुत्रों की भूख शांत हो जाए. द्रौपदी ने तब जो सामग्री मौजूद थी उससे पानी पूरी तैयार कर सबको खिलाई. ये सभी को बहुत पसंद आई. कहते हैं तभी से ही पुचका यानी गोलगप्पा हमारे खाने का हिस्सा बन गया.

puchka
Source: cubesnjuliennes

ये भी पढ़ें: फू़ड प्रेमियों के टेस्ट बड्स को छेड़ने के लिए गोलगप्पे के 20 लज़ीज़ तस्वीरें

दूसरी कहानियां इतिहास से जुड़ी हैं. इतिहासकारों का कहना है कि पानीपूरी की खोज 16 महाजनपदों (संस्कृत में महान साम्राज्य) में से एक मगध में हुई थी. मगर वो शख़्स जिसने इसकी खोज की वो इतिहास के पन्नों में कहीं गुम हो गया. इतिहासकार पुष्पेश पंत मानते हैं कि गोलगप्पे की खोज भारत में 120-130 साल पहले हुई होगी.

suji ke golgappe
Source: cookpad

इसके पीछे वो ये तर्क देते हैं कि भारत में आलू और मिर्च 300-400 साल पहले आए थे. इसकी खोज बिहार या उत्तर प्रदेश में हुई होगी. वो ये भी कहते हैं कि इसका आविष्कार राज कचौरी को देख किया गया हो. किसी ने छोटी सी पूरी बना कर खाई होगी और बन गया होगा गोलगप्पा. 

तो टेस्टी और टैंगी गोलगप्पों का ये इतिहास आपको कैसा लगा?