राजस्थान, भारत के पश्चिम में स्थित एक राज्य. रेत के टीलों, राजपूतों की आन बान शान की गवाही देती धरती. एक से बढ़कर एक क़िले, हवेलियों वाली इस धरती ने कई वंशों को फलते-फूलते और मिटते देखा है.

जिस शख़्स को इतिहास में रूचि न भी हो उसे राजस्थान आकर इतिहास में दिलचस्पी बढ़ जाएगी. ख़ूबसूरत दीवारों वाली हवेलियां देखकर किसे कहानियां पढ़ने-सुनने का मन नही ंहोगा?
राजस्थान में ही एक शहर है, बीकानेर, थार रेगिस्तान से घिरे इस शहर में एक 16वीं शताब्दी का किला है, जूनागढ़ किला  जो बहुत से लोगों को इस शहर तक खींच कर लाता है. आज बीकानेर के एक जैन मंदिर, भंडेसर जैन मंदिर के बारे में जानते हैं.

Source: E Nidhi
Source: Just Dial

क्या है ख़ासिय भंडेसर जैन मंदिर की?

Tripoto के एक लेख के मुताबिक़, भंडेसर जैन मंदिर या भांडा शाह जैन मंदिर अपनी तरह का इकलौता मंदिर ही है. Archaeological Survey of India (ASI) द्वारा संरक्षित इस मंदिर को 15वीं शताब्दी में भांडा शाह नाम के व्यापारी ने बनवाया. 

Source: Patrika

पत्रिका के एक लेख के अनुसार, बीकानेर के पुराने शहर में बड़ा बाज़ार में ही शाह ने 1468 ने इस मंदिर का निर्माण कार्य शुरू करवाया और 1541 में शाह की बेटी ने मंदिर का निर्माण कार्य पूरा करवाया. 108 फ़ीट ऊंचा यह तीन मंज़िला मंदिर 5वें जैन तीर्थांकर सुमतिनाथ को समर्पित है. 

पानी की जगह घी का इस्तेमाल

आमतौर पर निर्माण कार्यों में पानी का प्रयोग किया जाता है लेकिन इस मंदिर के निर्माण कार्य में शुद्ध देसी घी का इस्तेमाल किया गया. जब मंदिर की नींव डाली जा रही थी तब इसमें 40 हज़ार किलोग्राम शुद्ध देशी घी ़डाला गया. 

Source: Twitter

मंदिर की दीवारों की अद्भुत सजावट

मंदिर के इंटीरियर को अगर कोई नज़रभर देख ले तो खो जाए! सोने का वर्क, ऊंचे पिलर्स, नक्काशी और कई तरह की पेंटिंग्स से मंदिर की सजावट की गई है. मंदिर के भित्ति चित्र, मिरर वर्क भी आकर्षण का कारण हैं. इस मंदिर को बनाने में लाल बालू पत्थर का इस्तेमाल किया गया था.

Source: Twitter
Source: Tripoto

जब से मंदिर की स्थापना हुई है तब से यहां निरंतर पूजा-अर्चना होती है. पेशकश कैसी लगी कमेंट बॉक्स में बताइए.