कोई कितना ही बड़ा जानकार क्यों न हो, लेकिन सफ़र के दौरान गूगल मैप (Google Maps) की ज़रूरत पड़ ही जाती है. गूगल मैप के आने से हम सबकी एक बड़ी समस्या का सामाधान हो गया है. कहीं भी आना-जान हो मैप की मदद से अपनी मंज़िल तक पहुंच ही जाते हैं. है न?  

pcmag

वैसे एक बताओ गूगल मैप तो रोज़ ही इस्तेमाल करते हो, लेकिन जानते हो इसे बनाने का आईडिया कब और कहां से आया? दरअसल, गूगल मैप बनने की कहानी भी किसी धारावाहिक (Serial) की कहानी से कम नहीं है. चलिये इसी बात पर आज गूगल मैप बनने की कहानी भी जान लेते हैं. 

कैसा आया Google Map बनाने का आईडिया?

सबसे पहली बार Google Maps बनाने का आईडिया गूगल CEO सुंदर पिचाई को आया था. ये क़िस्सा 2004 का है. अमेरिका निवासी सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) को अपनी पत्नी के साथ कहीं डिनर पर जाना था. सुंदर पिचाई ने घर से निकलने से पहले पत्नी को कहा कि वो डायरेक्ट डिनर प्लेस (Dinner Place) पर पहुंच जाये. वो ऑफ़िस से डायरेक्ट उन्हें डिनर वाली जगह पर मिलेंगे.

सुंदर पिचाई की पत्नी अंजलि ठीक 8 बजे डिनर के लिये पहुंच चुकी थीं. सुंदर पिचाई भी डिनर के लिये टाइम से निकले थे, लेकिन वो बीच में रास्ता भटक गये. इसलिये उन्हें प्रोग्राम में पहुंचते-पहुंचते 10 बजे गये, तब तक उनकी पत्नी वहां से जा चुकी थीं.  

पत्नी से हुआ झगड़ा  

प्रोग्राम में समय से न पहुंचने के कारण सुंदर पिचाई की पत्नी उनसे काफ़ी नाराज़ थीं. इसलिये सुंदर पिचाई के घर पहुंचते ही दोनों का झगड़ा हुआ. पत्नी से झगड़े के वो ऑफ़िस चले गये और सोचते रहे कि ऐसा क्या बनायें जो कोई इंसान कभी रास्ता न भटके.  

ibtimes

जब टीम के सामने रखा आईडिया 

पूरी रात सोच-विचार करने के बाद अगले दिन सुंदर पिचाई अगले दिन टीम के साथ Maps का आईडिया साझा किया. पहले टीम ने इस आईडिया पर काम करने से इंकार कर दिया था. हांलाकि, काफ़ी समझाने के बाद उन्होंने टीम को Map बनाने के लिये राज़ी कर लिया. आखिर 2005 में वो दिन आ ही गया जब अमेरिका में गूगल मैप लॉन्च कर दिया गया. अमेरिका के बाद 2008 में गूगल मैप भारत तक पहुंच गया और अब दुनिया का हर 7वां शख़्स गूगल मैप के ज़रिये सफ़र तय करता है. 

britannica

किसी ने सच ही कहा कि बीवी और प्यार के लिये इंसान हर नाममुकिन काम को मुमकिन बना सकता है. वैसे सुंदर पिचाई ने बीवी के लिये गूगल मैप बना डाला और आप क्या बना सकते हो?