टास्क, बड़ा टास्क और फिर शुरू होती है खौलते दूध (Boil Milk) को गैस पर गिरने से बचाने की कोशिश. कितनी प्रैक्टिस कर लो, पर न चाहते हुए भी दूध के साथ खेल हो जाता है. ओह... ओह... कोई नहीं. छोटी-छोटी बातों पर मन दुखी मत करो, बल्कि ये सोचो कि ऐसा क्यों होता है?

Milk
Source: heritagefoods

ये भी पढ़ें: कभी सोचा है कि संसद भवन में पंखे उलटे क्यों लगे हैं? अब ज़्यादा मत सोचो और इसकी वजह यहां पढ़ लो 

ज़रा सोचिये कि पानी (Water) को चाहे कितना ही गर्म कर लो, लेकिन वो कभी बर्तन से बाहर आकर नहीं गिरता. वहीं दूध गर्म होते-होते नीचे गिर जाता है. चलिये आज इस पहेली का हल भी जान लेते हैं. आखिर वो कौन सी साइंस है, जिसकी वजह से दूध के साथ ऐसा हो जाता है.  

Boil milk
Source: abplive

ज़्यादा गर्म होते ही बर्तन से बाहर क्यों गिरता है दूध

जानकारी के अनुसार, दूध में प्रोटीन, फ़ैट, लैक्टोज़ आदि जैसे तत्व पाये जाते हैं. दूध को गर्म करते वक़्त ये सभी तत्व आपस में मिलते हैं और एक रिएक्शन पैदा होता है. जिसके कारण दूध में भाप बननी शुरू हो जाती है. परिणाम स्वरूप दूध में मौजूद सभी तत्व अलग-अलग होने शुरू हो जाते हैं.

Doodh
Source: picdn

ये भी पढ़ें: क्या आपने कभी सोचा है कि छींकते वक़्त क्यों बंद हो जाती हैं आंखें? 

इन तत्वों का वज़न काफ़ी हल्का होता है, जिस वजह से ये ऊपर आ जाते हैं और क्रीम के रूप में दूध के ऊपरी हिस्से में जमा हो जाते हैं, जो बाद हमें मलाई के तौर पर दिखती है. वहीं भाप पानी की तरह बाहर निकलने कोशिश करती है. भाप के प्रेशर के कारण दूध के आस-पास जमा तत्वों की परत ऊपर आने लगती है और ऐसे देखते-देखते दूध बर्तन से बाहर आ जाता है. आपको बता दें कि दूध के ऊपर जमने वाली लेयर को केसीन परत कहा जाता है.

stove boil milk
Source: bcdn

तो भाई ये छोटा सा लॉजिक है, जिसकी वजह से दूध उबल कर गिरता है. अब जिन लोगों को ये समझ आ गया है, वो दूध गर्म करते समय इस पर ग़ौर ज़रूर करें.