आज हम आपको देश के ऐसे शख़्स की कहानी बताने जा रहे हैं जो आज करोड़ों युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन चुके हैं. हम बात कर रहे हैं भारत के सबसे युवा अरबपति निखिल कामत की. ज़ीरो से हीरो बने निखिल की कहानी वाक़ई में युवाओं की प्रेरित करती है. लेकिन निखिल कई तरह की परेशानियों का सामना कर इस मुकाम तक पहुंचे हैं.

ये भी पढ़ें- Night Guard से IIM का प्रोफ़ेसर बनने तक, इस शख़्स की कहानी आपको कभी हार न मानने की प्रेरणा देगी

Source: asiatatler

कौन हैं निखिल कामत ? 

34 साल के निखिल कामत ब्रोकरेज फ़र्म जेरोधा (Zerodha) के को-फाउंडर और CIO हैं. जेरोधा आज देश की सबसे बड़ी ब्रोकरेज फ़र्म बन चुकी है. निखिल ने इसकी शुरुआत साल 2010 में की थी. इन 11 सालों में वो कड़ी मेहनत के दम पर देश के सबसे युवा अरबपति बन गए हैं.  

Source: businesstoday

स्कूल बंक मारकर दोस्तों के साथ शतरंज खेलना, अटेंडेंस कम होने की वजह से बोर्ड एग्जाम नहीं दे पाना और स्कूल ड्रॉप आउट हो जाना! महज 14 साल की उम्र दोस्त के साथ मिलकर पुराने फ़ोन बेचने का बिज़नेस करना हो या फिर कॉल सेंटर 8000 रुपये की नौकरी करना. निखिल कामत की ये कहानी किसी फ़िल्मी कहानी से कम नहीं है.  

Source: forbes

ये भी पढ़ें- कभी लोग उड़ाते थे मज़ाक अब करते हैं सलाम, मिलिए भारत की सबसे छोटे क़द की वक़ील से

निखिल कामत ने हाल ही में अपनी ये दिलचस्प कहानी 'ह्यूमंस ऑफ़ बॉम्बे' के साथ शेयर करते हुए कहा, मेरा स्कूल की ट्रेडिशनल पढ़ाई में बिलकुल भी मन नहीं लगता था. अटेंडेंस कम होने की वजह से मैं बोर्ड एग्जाम नहीं दे पाया था, जिसके बाद मैंने स्कूल ही छोड़ दिया. इस दौरान मेरे माता-पिता मेरे भविष्य को लेकर काफ़ी परेशान थे.

मैं एक ऐसे परिवार से आता हूं जहां सभी लोग MBA और Phd किए थे. ऐसे में मैंने ख़ुद से सवाल किया कि आख़िर मैं अपनी ज़िंदगी के साथ क्या कर रहा हूं. स्कूल से ड्रॉपआउट होने के बाद मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था कि अब क्या करूं? हालांकि, घर में गाइड करने वाले कई लोग थे, लेकिन मैं समझ ही नहीं पा रहा था कि आख़िर करना क्या है? 
Source: humansofbombay

14 साल की उम्र में किया पुराने फ़ोन बेचने का काम  

14 साल की उम्र मैंने अपने एक दोस्त के साथ मिलकर पुराने फ़ोन बेचने और ख़रीदने का काम शुरू किया, लेकिन जब घरवालों को इस बारे में पता चला तो मां ने सारे फ़ोन टॉयलेट में फ्लश कर दिए और बिज़नेस भी बंद हो गया. जब मैं 17 साल का था तब मैंने कॉल सेंटर में 8000 रुपये महीने की नौकरी शुरू कर दी. ये नौकरी पाने के लिए भी मैंने नकली बर्थ सर्टिफ़िकेट का सहारा लिया था.  

Source: instagram

18 की उम्र में पहली बार शेयर बाज़ार में किया निवेश 

कॉल सेंटर में जॉब के दौरान निखिल का लगाव शेयर बाज़ार की तरफ़ बढ़ने लगा. इस दौरान वो शेयर बाज़ार में हाथ आजमाने लगे. शुरुआत में उन्होंने कॉल सेंटर के मैनेजर समेत कर्मचारियों की छोटी-मोटी रकम शेयर बाज़ार में इन्वेस्ट की. इस दौरान जिन लोगों ने भी निखिल को पैसे देकर उन पर भरोसा रखा बदले में उन्हें शानदार रिटर्न भी मिला. निखिल ये काम अगले 3 से 4 साल तक करते रहे.

Source: instagram

2010 में ब्रोकरेज फर्म 'जेरोधा' की शुरुआत  

कॉल सेंटर की जॉब छोड़ने के बाद निखिल कामत ने साल 2010 में अपने बड़े भाई नितिन कामत के साथ मिलकर ब्रोकरेज फ़र्म 'जेरोधा' की शुरुआत की. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. साल 2020 में फ़ोर्ब्स ने इन दोनों भाइयों को भारत के 100 सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में शामिल किया. इस बीच निखिल भारत के सबसे युवा अरबपति भी बन गए.

Source: instagram

कोरोना संकट की वजह से साल 2020 में शेयर मार्केट के हालत बेहद ख़राब थे. इस दौरान उनकी फ़र्म से क़रीब 20 लाख नए ग्राहक जुड़े. अभी जेरोधा के क़रीब 40 लाख रजिस्टर्ड यूजर्स हैं. अरबपति बनने के बाद भी निखिल के काम करने के तरीक़े में कोई बदलाव नहीं आया है. वो आज भी दिन में 8 से 10 घंटे काम करते हैं.

जानकारी दे दें कि निखिल कामत ने अपने बड़े भाई के साथ मिलकर ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी True Beacon की भी शुरुआत की है.