भारत अपने लंबे-चौड़े इतिहास के लिए भी जाना जाता है. आज भी प्राचीन समय में बनाई गईं कई इमारतों को यहां देखा जा सकता है. ख़ासकर, राजा-महाराजाओं द्वारा बनाए गए क़िले विश्व भर से आने वाले सैलानियों को काफ़ी ज़्यादा प्रभावित करते हैं. भारत के प्राचीन क़िले वीर-गाथाओं के साथ-साथ अपनी कई ख़ास विशेषताओं के लिए भी जाने जाते हैं. इसी क्रम में हम आपको महाराष्ट्र के एक ऐसे प्राचीन क़िले के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे भारत के सबसे ख़तरनाक क़िलों में शामिल किया गया है. आइये, जानते हैं इस क़िले की पूरी कहानी.

कलावंती क़िला

kalawanti fort
Source: tripoto

इस ख़ौफ़नाक क़िले का नाम है कलावंती क़िला, जो महाराष्ट्र में पनवेल और माथेरन के मध्य स्थित हैं. वहीं, यह प्राचीन क़िला प्रबलगढ़ क़िले के नाम से भी जाना जाता है. माना जाता है कि इस क़िले का नाम क्षत्रपति शिवाजी के समय रानी कलावंती के नाम पर रखा गया था. कलावंती नाम पड़ने से पहले इस क़िले का नाम ‘मुरंजन’ था.

ऊंचाई पर स्थित

kalawanti fort
Source: treksandtrails

इस क़िले को ख़ौफ़नाक बनाने का काम करती है इसकी ऊंचाई. माना जाता है यह क़िला 2300 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है. अब आप अंदाज़ा लगा लीजिए कि यह कितना ख़तरनाक है.   

रोमांचकारियों का मुख्य स्थल

kalawanti fort
Source: dilsedeshi

यह क़िला रोमांच का शौक़ रखने वालों को काफ़ी ज़्यादा आकर्षित करता है. यहां का ट्रैकिंग अनुभव लेने के लिए दूर-दूर के एडवेंचर प्रेमी आते हैं. लेकिन, इस क़िले की चढ़ाई वही लोग कर सकते हैं, जो मानसिक और शारीरिक रूप से तंदुरुस्त हो. कमज़ोर दिल वाले यहां भूल से भी चढ़ाई न करें.

चट्टानों को काटकर बनाया गया रास्ता 

kalwanti fort trek
Source: wikipedia

यहां ट्रैकिंग करने के लिए कोई साधारण रास्ता नहीं है. चट्टानों को काट-काटकर रास्ता बनाया गया है, जो काफ़ी ज़्यादा ख़तरनाक है. अगर किसी का पैर फिसला, तो वो सीधे मौत के मुंह में जाएगा. 

शाम के बाद कोई नहीं टिकता

kalawanti fort
Source: salilmahadik

यह क़िला कुछ ज़्यादा ही ऊंचाई पर बनाया गया है. ऊपर न ही पानी मिलेगा और न ही बिजली की कोई व्यवस्था है. इसलिए, कोई यहां शाम के बाद नहीं ठहरता है. 

आने का सही समय 

kalawanti fort
Source: theculturetrip

अक्टूबर से लेकर मई तक यहां आने का सही समय माना जाता है. वहीं, बारिश के मौसम में यहां न आने के लिए कहा जाता है, क्योंकि चट्टानी रास्ता फिसलन भरा हो जाता है.   

मनहूस हो चुकी है यह जगह

kalawanti fort
Source: patrika

स्थानीय लोगों के अनुसार, यह जगह अब मनहूस हो चुकी है. यहां कई लोग अपनी जान गवां बैठे है. यही वजह है कि यहां नकारात्मक शक्ति का वास है. वहीं, कई लोग यहां आत्महत्या भी कर चुके हैं. लेकिन, किले के भुतहा होने से जुड़े फिलहाल कोई सटीक प्रमाण उपलब्ध नहीं है.