मैसूर पाक को दक्षिण भारतीय मिठाइयों का राजा कहा जाता है. बेसन और घी से बनी ये मिठाई मुंह में रखते ही घुल जाती है और फिर इसका स्वाद आपकी ज़ुबां पर ऐसा चढ़ता है जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता. मैसूर पाक की खोज का क़िस्सा मैसूर पैलेस से जुड़ा है.

चलिए आज इस दक्षिण भारत की स्पेशल मिठाई के इतिहास को डिकोड करते हैं.

Mysore Pak
Source: foodfactfun

मैसूर पाक की खोज 20वीं सदी में हुई थी. बात उन दिनों की है जब मैसूर में कृष्ण राजा वाडियार IV का राज था. इनके शाही रसोइये का नाम था काकसुर मडप्पा. एक दिन मडप्पा ने राजा के लिए भोजन बनाया, लेकिन वो थाली में मीठा बनाना भूल गए.

Source: oneindia

राजा की थाली का मीठे वाला स्थान खाली था. ये देखकर मडप्पा ने तुरंत बेसन, घी और चीनी से एक मिठाई तैयार कर डाली. जब राजा भोजन कर चुके, तब इसे उनके सामने पेश किया गया. राजा को इसका स्वाद बहुत ही पसंद आया. उन्होंने मडप्पा से उसका नाम पूछा.

Mysore Pak
Source: patrika

मज़े की बात ये थी कि मडप्पा ने इसे पहली बार बनाया था और वो भी इसका नाम नहीं जानते थे. अब राजा को तो जवाब देना था, तो उन्होंने झट से मैसूर पाक कह दिया. कन्नड़ भाषा में पाक का मतलब मिठाई होता है. चूकीं मैसूर पैलेस में इसे बनाया गया था तो मडप्पा ने इसे ये नाम दे दिया.

Mysore Pak
Source: khanakhazana

राजा ने सोचा इस मिठाई का स्वाद महल के बाहर यानि प्रजा को भी चखना चाहिए. इसलिए उन्होंने मैसूर पैलेस के बाहर इस मिठाई को एक दुकान खोलकर बेचने का आदेश दिया. इस तरह मैसूर पाक राज महल से निकल कर कर्नाटक के घर-घर तक पहुंच गया.

Mysore Pak
Source: thehealthsite

कर्नाटक की इस मिठाई का स्वाद आज पूरी दुनिया चख रही है. वहां पर दशहरा उत्सव में बनाई जाने वाली थाली का ये मुख्य हिस्सा होता है. कर्नाटक में गुरू स्वीट्स नाम की दुकान का मैसूर पाक बहुत ही उम्दा होता है. इस दुकान को मडप्पा के वंशज चला रहे हैं. अगर आप कभी कर्नाटक जाएं, तो वहां का मैसूर पाक खाना न भूलना.

मैसूर पाक का ये इतिहास आपको कैसा लगा? कमेंट कर हमसे भी शेयर करें.

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.