Walking Palm Tree: क़िस्से-कहानियों में आपने कई बार अजीबो-ग़रीब पेड़ों का ज़िक्र ज़रूर सुना होगा, जो इंसानों को खा जाते हैं या इंसानों का पीछा करते हैं. वैसे, ये सब मनगढ़ंत बाते हैं, जिनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं, लेकिन प्रकृति में ऐसे कई पेड़े-पौधे हैं, जो अपनी अजीबो-ग़रीब ख़ासियतों के लिए जाने जाते हैं, जैसे पिचर प्लांट, जो कीड़े-मकोड़ों को दबोच लेता है. वहीं, जंगलों में कुछ ऐसे भी पेड़ हैं, जिनकी पत्तियां या फल अगर इंसान खा ले, तो उसकी मौत भी हो सकती है.


इसके अलावा, प्रकृति की विचित्र दुनिया में एक ऐसा भी पेड़ है, जो चल सकता है. जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं. इस लेख में हम आपको उसी विचित्र पेड़ के बारे में बताने जा रहे हैं, जो साल में कई मीटर तक चल लेता है.

Walking Palm Tree
Source: bbc

आइये, अब विस्तार से जानते हैं वॉकिंग पाम ट्री (Mysterious Walking Palm Tree) के बारे में.

चलने वाला पेड़

Walking Palm Tree
Source: bbc

Mysterious Walking Palm Tree: हम जिस विचित्र पेड़ के बारे में बता कर रहे हैं, उसे Walking Palm Tree कहा जाता है. वहीं, इसका वैज्ञानिक नाम Socratea exorrhiza, जो Socratea के परिवार का है. ये पेड़ दक्षिण अमेरिका के वर्षावनों में पाए जाते हैं. ख़ासकर, Sumaco Biosphere Reserve, जो कि Ecuador की राजधानी क्विटो से 100 किमी की दूरी पर है.


जंगल के अंदर पहुंचने के लिए चढ़ाई और कीचड़ भरे रास्तों से गुज़रना होता है. BBC के अनुसार, ये पेड़ रोज़ाना दो से तीन सेंटीमीटर तक चल लेते हैं.

कैसे चल पाते हैं ये पेड़?

Walking Palm Tree
Source: bbc

Mysterious Walking Palm Tree इंसानों की तरह नहीं चलते हैं, लेकिन इस पेड़ की अपनी कुछ क्रियाएं हैं, जो इसे एक जगह से दूसरी जगह (Do walking palms actually walk) जाने के काबिल बना देती हैं. दरअसल, ऐसा संभव हो पाता है इनकी ख़ास जड़ों की वजह से. जब नई जड़ें आती हैं, ये ये पेड़ आगे की ओर बढ़ जाता है, जैसे चल रहा हो. लगभग दो से तीन सेंटीमीटर रह रोज़. अधिकांश पेड़ों में एक तना होता है और जडे़ं अंदर. वहीं, इस पेड़ की जड़ें ज़मीन से कुछ फ़ीट ऊपर उठ जाती हैं, जैसे इसके पैर हों.

एक वैज्ञानिक ने पेड़ की विचित्र गतिविधी को देखने का किया दावा 

Walking Palm Tree
Source: bbc

Do walking palms actually walk: वैज्ञानिकों के मध्य वॉकिंग पाम ट्री एक डिबेट का विषय है, लेकिन Slovak Academy of Sciences Bratisla के Palaeobiologist पीटर व्रसान्स्की (Peter Vrsansky) का दावा है कि उन्होंने वॉकिंग पाम ट्री की ये विचित्र गतिविधी देखी है.


पीटर व्रसान्स्की कहते हैं कि "जैसे ही मिट्टी का क्षरण (Erodes) होता है, इस पेड़ की नई और लंबी जड़ें उगती हैं, जो नई और अधिक ठोस ज़मीन ढूंढती हैं, कभी-कभी 20 मीटर तक. वहीं, जैसे-जैसे जड़ें मिट्टी में बसती हैं, पुरानी जड़ें धीरे-धीरे ऊपर उठती हैं.

पेड़ को बेहतर धूप और अधिक ठोस ज़मीन के साथ एक नई जगह पर स्थानांतरित करने की पूरी प्रक्रिया में कुछ साल (How far does a walking tree move in a year) लग सकते हैं.”

हालांकि, कुछ वैज्ञानिक पाम ट्री की चलने की बात को एक मिथक कहते हैं. तो ये थी चलने वाले पेड़ की कहानी, आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में बताना न भूलें. अगर आपने भी किसी पेड़ से जुड़ी अजीबो-ग़रीब बातें सुनी हैं,तो हमें कमेंट में बताना न भूलें.