कुदरत (Nature) को इंसान नुक़सान पहुंचा सकता है, मगर ख़त्म नहीं कर सकता. प्रकृति के नष्ट होने का मतलब, इंसानी वजूद का खात्मा है. हम सब इस बात से वाकिफ़ हैं, मगर अंधी विकास की दौड़ में विनाश की ओर बढ़े जा रहे हैं. हालांकि, हम कितना भी कोशिश कर लें, प्रकृति से आगे नहीं जा सकते क्योंकि कुदरत अपना रास्ता बनाना जानती है.

आज हम जो तस्वीरें लेकर आए हैं, वो कुदरत (Nature) की इसी शक्ति का सुबूत हैं.

1. अगला स्टेशन कुदतरगंज है.

Tracks
Source: boredpanda

2. ये ओक का पेड़ एक रेलिंग के ज़रिए आगे बढ़ रहा है.

Oak Tree
Source: boredpanda

3. प्रकृति की पकड़ सबसे मज़बूत होती है.

Becoming One With Nature
Source: boredpanda

4. फुकुशिमा में रेडियो एक्टिव कारोंं को इंसान छोड़ गए, तो धीरे-धीरे कुदरत ने उन्हें अपनाने आ गई.

Radioactive Cars
Source: boredpanda

5. रेत की आगोश में आशियाना.

Desert
Source: boredpanda

6. हर अक्षर पर कुदरत का नाम लिखा है.

Tombstone
Source: boredpanda

7. प्रकृति अपनी ही धुन में रहती है.

 Piano
Source: boredpanda

8. इस कबाड़ रोलर कोस्टर पर अब कुदरत राइड करती है.

Roller Coaster
Source: boredpanda

9. वक़्त और कुदरत को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता.

Nature
Source: boredpanda

10. नेचर हर चीज़ को ख़ुद के भीतर जगह दे देता है.

Overtaking A Car
Source: boredpanda

11. कुदरत से खिलवाड़ किया, तो ऐसा ही नैया डूबेगी

Cruise Ship
Source: boredpanda

12. इस दुनिया को ख़त्म करने वाले हथियार ऐसे दफ़्न हो जाने चाहिए.

Abandoned Tank
Source: boredpanda

13. प्रकृति का रास्ता रोका, तो हमारा पहिया भी जाम हो जाएगा.

Wheel
Source: boredpanda

14. इंसानों की ग़ैर-मौजूदगी में प्रकृति खुलकर सांस लेती है.

Trees
Source: boredpanda

15. प्रकृति की रफ़्तार कोई नहीं रोक सकता.

Car
Source: boredpanda

16. रेलिंग के चारों ओर निकला पेड़.

Railing
Source: boredpanda

17. कुदरत अपना रास्ता बनाना जानती है.

Growing
Source: boredpanda

18. आयरलैंड में ये कभी एक महल था, अब कुदरत का घर है.

Abandoned Castle
Source: boredpanda

19. STOP साइन भी कुदरत को उसके भीतर से निकलने से रोक न पाया.

Stop Sign
Source: boredpanda

20. चिमनी के भीरत से निकला पेड़.

Chimney
Source: boredpanda

ये भी पढ़ें: प्रकृति की शक्ति की गवाह हैं ये 18 तस्वीरें, इससे खिलवाड़ ख़ुद की तबाही को दावत देना है

वाक़ई, इंसान कुछ भी कर ले, मगर प्रकृति को आगे बढ़ने से रोक नहीं सकता.