हम बचपन से ही Parle G जी बिस्कुट खाते आ रहे हैं. यहां तक कि हमारे माता-पिता ने भी Parle G का स्वाद चखा होगा. इतने साल बीत गए लेकिन न ही इसका स्वाद बदला न ही इसका साथी. बात हो रही है चाय की. Parle G और चाय एक-दूसरे के पूरक हैं. ये दोनों बने ही हैं एक-दूसरे के लिए.

गांव हो या शहर आज भी लोगों को वहां पर चाय और Parle G खाने को मिल जाते हैं. आम लोग तो अपने मेहमानों का स्वागत भी चाय और Parle G के साथ ही करते हैं. Parle G और चाय से जुड़ी यादें भी हर किसी के पास हैं.

Source: india

जैसे बचपन में जब भी चाय बनती थी, तो मां 2 रुपये देकर Parle G लेकर आने को कहती थी. मेरा तो बचपन चाय और Parle G के साथ ही बीता है. दोस्तों के साथ पढ़ाई करनी हो तो चाय और Parle G हमारा साथ देते थे.

Source: postoast

बड़े हुए तो दोस्तों के साथ दुनिया जहान की बातों पर बहस करते हुए चाय और पार्ले जी ही खाया करते थे. आज भी जब पुराने दोस्तों से मिलना होता है, तब चाय और पार्ले जी के साथ ही किसी टपरी पर डेरा जमाते हैं. ऑफ़िस में शाम को जब भी कुछ खाने का मन हो तो कलीग्स के साथ 10 मिनट का ब्रेक ले चाय और पार्ले जी खा आते हैं.

Source: psilove

पार्ले-जी और चाय साथ हों, तो बोरिंग सा लेक्चर भी अच्छा लगने लगता है


पार्ले-जी और चाय मिल जाएं तो दिनभर की थकान दूर हो जाती है

बॉस की डांट भी चाय और पार्ले-जी खाने से फुर्र हो जाती है

मन दुखी हो तो चाय और पार्ले-जी खाकर मन को ख़ुशी मिलती है

लोग दोस्ती की मिसाल भी अब तो चाय और पार्ले-जी से ही देने लगे हैं

शान से हम कहते हैं कि इन दोनों के बिना हम इंडियन्स की ज़िंदगी अधूरी है

चाय और पार्ले-जी का साथ ऐसे है जैसे दिल और उसकी धड़कन

क्या आपको नहीं लगता कि चाय और पार्ले-जी बने ही एक-दूजे के लिए हैं?

Source: thestorypedia

ये लिखने के बाद अब तो मेरा मन चाय और पार्ले-जी खाने को तड़प उठा है. मैं तो चला आप भी जाइए चाय और पार्ले-जी का लुत्फ़ उठाइए.

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.