पिंक सिटी जयपुर हमारे देश के इतिहास में ख़ास जगह रखती है, लेकिन यहां पर ऐतिहासिक इमारतों के अलावा भी बहुत कुछ है. ख़ासकर यहां का मुंह में पानी ला देने वाला लज़ीज और स्वादिष्ट भोजन. जयपुर की हर गली-नुक्कड़ पर आपको यहां मिलने वाले पारंपरिक 'राजस्थानी व्यंजन' चखने को मिल जाएंगे. 

आइए जानते हैं जयपुर के ट्रिप पर हमें कौन-कौन सी राजस्थानी डिशेज ट्राई करना नहीं भूलना चाहिए? 

1. दाल बाटी चूरमा 

Source: eazydiner

राजस्थान का 'दाल बाटी चूरमा' पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है. पंचमेल दाल के साथ जब घी में डूबी बाटी मुंह में जाती है तो मज़ा आ जाता है. इसके बाद मीठा-मीठा चूरमा चख कर जैसे आप स्वर्ग में पहुंच जाते हैं. जयपुर में किसी भी रेस्टोरेंट/आउटलेट पर आप इसे ट्राई कर सकते हैं. 

2. लाल मांस 

Source: outlookindia

राजस्थानी भोजन की शान है 'लाल मांस'. इसे मटन, ढेर सारी लाल मिर्च और मसालों में पकाया जाता है. बाजरे की रोटी के साथ तो इसका स्वाद अलग ही लेवल का होता है.

3. घेवर 

Source: idiva

ये राजस्थान की पारंपरिक मिठाई है. इसे आटे, दूध और चाशनी से तैयार की जाती है. ये दिखने में किसी प्लेट/थाली के जैसी होती है. वहां त्यौहारों पर इसे ज़रूर बनाया जाता है.

4. मिर्ची वड़ा

Source: archanaskitchen

जयपुर की हर गली में आपको यहां का सबसे मशहूर स्नैक 'मिर्ची वड़ा' खाने को मिल जाएगा. इसे हरी मिर्च में मसालेदार आलू का मिक्सचर भरकर डीप फ़्राई कर बनाया जाता है. किसी भी चटनी के साथ इन्हें आप ट्राई कर सकते हैं. हां, ये तिखे होते हैं तो जरा संभल कर. 

5. मांस का सूला 

Source: positivenewstrends

इसका स्वाद कुछ-कुछ चिकन टिक्का जैसा होता है. इसे मीट से बनाया जाता है. मीट को मसाले, प्याज़, कच्चे पपीते में मैरिनेट कर इसे बनाया जाता है. राजस्थानी पारंपरिक डिश में इसका नाम भी शामिल है. 

6. प्याज़ कचौरी 

Source: jaipurstuff

जयपुर के लोग प्याज़ कचौरी बड़े चाव से खाते हैं और यहां आने वाले लोगों को भी खिलाते हैं. पुदीने की चटनी के साथ तो इसका स्वाद और भी बढ़ जाता है. वहां जाना तो इसे ज़रूर ट्राई करना. 

7. राजभोग 

Source: awesomecuisine

दिखने में तो ये मिठाई बंगाल के रसगुल्ले जैसी दिखाई देती है, लेकिन इसका स्वाद उससे कहीं जुदा है. इसका स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें केसर भी डाला जाता है. कहते हैं जयपुर जाने वाले की ट्रिप अधूरी अगर उसने इसका स्वाद नहीं चखा. 

जयपुर जाकर इन्हें ज़रूर चखना.