असम का डिब्रूगढ़ ज़िला अपनी प्राकृतिक ख़ूबसूरती और चाय के बागानो के लिए फ़ेमस है. लेकिन इसके अलावा भी एक चीज़ जो इस इलाके को और भी ख़ास बनाती है. वो है बौद्ध धर्म. यहां पर बौद्ध धर्म से जुड़े कई मठ और तीर्थ स्थल हैं. यहां जाकर आपको एक अलग तरह की शांति का एहसास होगा. इसके साथ ही आपको यहां पर बौद्ध धर्म को और भी करीब से जानने का मौक़ा भी मिलेगा. आइए जानते हैं कि वो कौन सी बाते हैं, जो इस ज़िले को बौद्ध धर्म से जुड़े लोगों को आकर्षित करती हैं.

1. नामफाके गांव

ये गांव अपनी प्राकृतिक सुंदरता और बौद्ध मठों के लिए प्रसिद्ध है. नाहरकटिया का ये छोटा-सा गांव बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए स्वर्ग के समान है. यहां के लोग बौद्ध धर्म की परंपराओं और संस्कृति का पालन करते हैं.

2. डिब्रूगढ़

महायान बौद्ध धर्म की प्रमुख परंपराओं में से एक है. इसकी शुरुआत पहली शताब्दी में की गई थी. ये बोधीसत्व और जीवन के दूसरे आदर्शों पर आधारित है. इसके दर्शन करने के लिए आपको डिब्रूगढ़ ज़रूर जाना चाहिए.

3. नामफाके मोनेस्टी

1850 में बनी नामफाके मोनेस्टी बौद्ध धर्म की सबसे पुरानी मॉनेस्ट्रियों में से एक है. ये जगह यहां के लोग और बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए ये एक पवित्र स्थान है. इसमें एक ध्यान केंद्र भी बना है, जहां जाकर आप आधात्यमिक शांति ग्रहण कर सकते हैं.

4. Poi-Nen-Chi Festival

भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि देने के लिए नामफाके गांव में मार्च के महीने में हर साल Poi-Nen-Chi Festival त्योहार मनाया जाता है. बौद्ध धर्म की परंपराओं को करीब से जानने के लिए आपको डिब्रूगढ़ की यात्रा इस फ़ेस्टिवल के दौरान ही करनी चाहिए.

5. अशोक स्तंभ

नामफाके गांव डिब्रूगढ़ का मेन टूरिस्ट स्पॉट है. यहां पर बौद्ध धर्म से संबंधित राजसी अशोक स्तंभ और पैगोडा भी हैं. यहां भगवान बुद्ध की एक मूर्ती भी है, जो सोने की है. बौद्ध धर्म का वास्तविक सार जानने के लिए आपको इनके दर्शन ज़रूर करने चाहिए.

6.अनुशासन

नामफाके गांव के लोग बौद्ध धर्म का पालन पूरे अनुशासन के साथ करते हैं. इसलिए यहां पर कोई भी हिंसा नहीं करता. इस गांव में पुलिस भी गांववालों की आज्ञा के बिना कदम नहीं रखती. ये लोग आज भी बीमारियों के इलाज में आर्युवेदिक पद्धतियों का इस्तेमाल करते हैं.

7. डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी

डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी में भी बौद्ध धर्म की पढ़ाई करने वालों को विशेष छूट दी जाती है. अगर आपकी दिलचस्पी बौद्ध धर्म में है और आप इस विषय में पढ़ाई करना चाहते हैं, तो इस विश्विद्यालय से बेहतर ऑप्शन कोई नहीं. यहां पर दलाई लामा भी अपने विचार प्रकट कर चुके हैं. आपको यहां पर बौद्ध धर्म से जुड़ी हर बात पर डिबेट करने का मौका भी मिल सकता है.