DW

Secret Of The Ship: ब्रिटेन के खोजियों ने बताया है कि 1682 में डूबा शाही जहाज़ 15 साल पहले ही खोज लिया गया था. इस खोज को छिपा कर रखा गया था.


क्यों ख़ास था ये जहाज़, आइए जानते हैं-   

डूबे जहाज़ का रहस्य – Secret Of The Ship In Hindi

2007 में हो चुकी थी खोज, छिपाए रखा 

DW

1682 में डूबा ब्रिटेन का शाही जहाज़ अब दुनिया को दिखाया गया है. साथ ही, ये उजागर किया गया कि इसकी खोज तो 15 साल पहले ही हो चुकी थी. 

डाकुओं के डर से 

DW

340 साल पहले डूबे इस जहाज़ ‘द ग्लोसेस्टर’ की ख़ोज को इसलिए छिपाकर (Secret Of The Ship) रखा गया क्योंकि डर था कि लुटेरे इस जहाज़ पर हमला कर सकते हैं.  

बेशक़ीमती ख़ज़ाना  

DW

इस जहाज़ पर कई तरह की बेशक़ीमती ऐतिहासिक कलाकृतियां मिली थीं, जिनमें पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन के पूर्वजों की कांच की मुहर भी शामिल हैं. 

ये भी पढ़ें: इन 20 ऐतिहासिक तस्वीरों के ज़रिए देख लीजिये दुनिया का सबसे बड़ा जहाज Titanic कैसे डूबा था   

वो पल जब जहाज़ मिला 

DW

2007 में इसे गोताखोर भाइयों जूलियन और लिंकन बार्नवेल ने चार साल की तलाश के बाद खोज लिया था. लिंकन बार्नवेल ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया,

मैं समुद्र की तलटही में घुटनों के बल बैठा था और मेरे चारों ओर विशाल तोपें थीं. पूरा का पूरा जखीरा था. मैं बस बैठा रहा. शायद पांच मिनट तक. मुझे यकीन नहीं हो रहा था. वो मैं कभी नहीं भूल पाऊंगा. 

-लिंकन बार्नवेल

ये भी पढ़ें: 106 साल पहले डूबे टाइटैनिक जहाज़ को कैसे खोजा गया था, इसकी पूरी कहानी लाए हैं हम

भविष्य की दिशा तय हुई 

DW

ये भी पढ़ें: ये हैं वो समुद्री मार्ग, जहां जहाज़ों का आना-जाना वहां की सरकारों के लिए जी का जंजाल बन चुका है

इस खोज के अभियान की साझीदार ईस्ट आंग्लिया यूनिवर्सिटी का कहना है कि उस दुर्घटना में 130 से 250 लोग मारे गए थे, जिन्होंने इतिहास की दिशा बदलने की धमकी दी थी. यूनिवर्सिटी ने कहा कि, 1688 में हुई ग्लोरियस क्रांति ने जेम्स द्वितीय का तख़्ता पलट दिया और एक ऐसी राज़ व्यवस्था के लिए राह बनाई, जो अधुनिक दुनिया के लिए पहला क़दम साबित हुआ.