आज हमें कहीं भी आना-जाना हो या फिर किसी जगह को देखना हो, तो झट से Google कर लेते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस धरती पर ऐसी कई जगहें हैं, जो आपको Google मैप पर भी नज़र नहीं आएंगी. ये वो गुप्त स्थान हैं, जिन्हें किसी न किसी कारण से मैप पर छिपाने की कोशिश की गई है. इन्हें अगर आप सर्च करेंगे, तो ये धुंधले नज़र आएंगे. ऐसा इन जगहोंं को लोगों की नज़रों से छिपाने के लिए किया गया है.

तो, आइए जानते हैं, वो कौन-कौन सी जगह हैं, जिन्हें हम Google मैप भी देख नहीं सकते हैं-

1. कैटेनोम परमाणु ऊर्जा संयंत्र – फ्रांस

twitter

Cattenom परमाणु ऊर्जा संयंत्र दुनिया का नौवां सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा केंद्र है, जो लक्ज़मबर्ग शहर के क़रीब Grand Est में स्थित है. यदि आप इसे Google मैप पर सर्च करेंगे, तो इस पूर एरिया की इमेज के पिक्सल फटे हुए नज़र आएंगे. 

ये भी पढ़ें: एक पल में अरबपति बना सकती हैं भारत की ये 8 रहस्यमयी जगहें, यहां आज भी छिपे हैं अनमोल ख़ज़ाने

2. कोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – ग्रीस

कोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा ग्रीस के कोस द्वीप मौजूद है. Google मैप पर इसकी तस्वीर आपको धुंधली नज़र आएगी.  कथित तौर पर, हवाईअड्डा से चार्टर एयरलाइंस उड़ान भरती है, जो लोगों को द्वीप ले जाती हैं. गर्मियों के दौरान ये ज़्यादा सक्रिय रहती हैं.

3. अमचिटका द्वीप – अलास्का

indiatimes

अगर आप इस द्वीप को सर्च करेंगे, तो देखेंगे कि आधे से ज़्यादा द्वीप धुंधला है. रिकॉर्ड के अनुसार, 1950 के दशक के अंत में अमेरिकी परमाणु ऊर्जा आयोग द्वारा अमचिटका को भूमिगत परमाणु परीक्षणों के लिए साइट के रूप में चुना गया था. कहा जाता है कि इस द्वीप पर तीन भूमिगत परमाणु परीक्षण किए गए थे. आज, इस द्वीप पर रेडियोधर्मी सामग्री के किसी भी रिसाव के लिए निगरानी की जा रही है. एक अनुमान के मुताबिक,  2025 में ये द्वीप एक वन्यजीव संरक्षण बन जाएगा, जहां लोगों का आना मना होगा.

4. जेनेट द्वीप – रूस

indiatimes

Google मैप पर अगर आप जेनेट द्वीप रूस सर्च करेंगे, तो आपको कुछ भी नज़र नहीं आएगा. ये द्वीप पूर्वी साइबेरियाई सागर में स्थित है. हालांकि कोई इसे नहीं देख सकता है. माना जाता है कि ये एक सैन्य अड्डा है, जिसे रूस दुनिया की नज़रों से छिपाकर रखना चाहता है. 

5. Marcoule परमाणु स्थल – फ्रांस

indiatimes

Google मैप पर फ्रांस की मार्कोले परमाणु साइट को देखना मुमकिन नही है, क्योंकि मैप पर पूरी साइट की तस्वीर के पिक्सल फटे हुए नज़र आते हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसा फ़्रांसीसी सरकार के कहने पर किया गया है. क्योंकि ये फ़्रांस के शीर्ष परमाणु अनुसंधान सुविधाओं में से एक है.

6. मिनामी तोरीशिमा हवाई अड्डा – जापान

inteng

Google मैप पर ये हवाई अड्डा धुंधला नज़र आता है. मिनामी तोरीशिमा द्वीप पर ये रनवे सफ़ेद रंग से पटा हुआ नज़र आता  है. बताया जाता है कि इस द्वीप का उपयोग जापान समुद्री आत्मरक्षा बल द्वारा किया जाता है. 

7. मोरुरोआ द्वीप – फ्रेंच पोलिनेशिया

indiatimes

ये द्वीप Google मैप पर आधा साफ़ और आधा धुंधला दिखाई देता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, फ़्रांस ने 1966 और 1996 के बीच मुरुरोआ पर परमाणु परीक्षण किए थे. 

8. हाई-फ़्रीक्वेंसी एक्टिव ऑरोरल रिसर्च प्रोग्राम – गकोना, अलास्का

inteng

इसे डिफेंस एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी (DARPA) और अमेरिकी वायु सेना, नौसेना द्वारा फंड किया गया था. Google मैप पर इस जगह की तस्वीर आपको सफ़ेद रंग से ढकी हुई नज़र आएगी.