बेटा हल्दी वाला दूध बना दिया है, पी ले जल्दी से ताकत आती है…

मुझे नहीं अच्छा लगता मम्मी मैं नहीं पियूंगी…

बचपन में जब भी मम्मी दूध पीने की बात होती थी, वो भी हल्दी वाले दूध की, तो बेमन से दस नख़रे दिखाते थे, तब जाकर नाक-मुंह सिकोड़ कर एक सांस में पी जाते थे. तब मैंने कभी नहीं सोचा था कि बड़े होकर वही हल्दी वाला दूध विदेशी लिबास में ‘turmeric latte’ रूप में मेरे सामने आएगा और मैं उसे खरीदकर पियूंगी.

dainikbhaskar

तब मम्मी की बातें समझ नहीं आती थीं, अब हल्दी के औषधीय गुणों पर आये दिन रिसर्च हो रहीं हैं, जिनसे ये बात साबित हो रही है कि स्वास्थ्य सम्बन्धी हर समस्या का समाधान किसी न किसी रूप में हल्दी में छिपा है.

हल्दी के स्वास्थ्य लाभ

ytimg

दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय मसालों में से एक है हल्दी. ऐसे ही नहीं हल्दी को ‘The Golden Spice’ कहा गया है. एशियाई देशों में इसका इस्तेमाल खाने में तो होता ही है, साथ ही इसके स्वास्थ्य लाभों को देखते हुए कई दवाओं में भी इसका उपयोग सदियों से किया जा रहा है. हल्दी में कई शक्तिशाली यौगिकों के साथ-साथ एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल, एंटीसेप्टिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीफ़ंगल गुण होते हैं. इसके अलावा हल्दी में फाइबर, विटामिन C, E और K, कई तरह के तत्व जैसे कैल्शियम, ज़िंक, कॉपर और पोटैशियम भी पाए जाते हैं. इसमें प्रयाप्त मात्रा में प्रोटीन भी पाया जाता है.

तो चलिए अब देखते हैं हल्दी के कुछ मुख्य स्वास्थ्य लाभ:

1. कैंसर से लड़ने में मददगार

हल्दी पर की गयीं स्टडीज़ से ये बात साफ़ हो गई है कि हल्दी में मौजूद कर्क्यूमिन (Curcumin) शरीर में कैंसरी की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है और कीमोथैरेपी के प्रभाव को भी बढ़ाता है. कर्क्यूमिन तत्व ल्यूकेमिया, ब्रेस्ट कैंसर और कोलन कैंसर सेल्स से लड़ने में मदद करता है.

2. डिप्रेशन का रामबाण इलाज

नियमित रूप से हल्दी का सेवन करने से बॉडी में ऐसे एंटीऑक्सीडेन्ट्स बनते हैं, जिसमें पर्याप्त मात्रा में एंटी-डिप्रेशन गुण होते हैं. यानी जो डिप्रेशन से लड़ने में मददगार साबित होते हैं.

3. ऑर्थराइटिस के दर्द को कम करती है हल्दी

शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण हल्दी गठिया और ऑस्टियोआर्थराइटिस सहित कई तरह की सूजन संबंधी बीमारियों के दर्द को कम करती है. दूध में हल्दी मिलाकर पीने से हड्डियां मजबूत होती हैं. दूध में मौजूद कैल्शियम हड्डियों को मजबूती देता है. हड्डी सम्बन्धी रोगों का रामबाण इलाज है हल्दी.

4. वज़न कम करने में सहायक

हल्दी का सेवन शरीर को सुडौल बनाता है. रोज़ सुबह के समय एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से शरीर सुडौल होता है. गुनगुने दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा अतिरिक्त फ़ैट धीरे-धीरे कम होने लगता है. इसमें पाते जाने वाले कैल्शियम और अन्य तत्व वज़न कम करने में भी मददगार होते हैं.

5. अनिद्रा में सहायक

यदि आपको भी रात में नींद नहीं आने की समस्या है और आप रात भर विचारों में खोए रहते हैं तो हल्दी वाला दूध आपके लिए अच्छी नींद में सहायक हो सकता है. रात का भोजन करने के बाद सोने से आधे घंटे पहले हल्दी वाला दूध पीएं फिर देखिए आपको रात में कैसी नींद आती है.

6. चोट और घाव को भरने में सहायक

हल्दी के एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल, एंटीसेप्टिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीफ़ंगल गुण किसी चोट के घाव को तेजी से भरने का काम करते हैं. यदि आपके चोट लगने पर तेजी से खून बह रहा है, तो आप उस जगह तुरंत हल्दी डाल दें. इससे आपकी चोट का खून बहना कम हो जाएगा. हो सके तो डॉक्टर के यहां पहुंचने से पहले इस पट्टी को न खोलें. हल्दी को चूने में मिलाकर गुम चोट में लगाने से ये दर्द को जड़ से ख़त्म कर देती है.

7. इम्म्यून सिस्टम को मजबूत बनाती है हल्दी

हल्दी के गुणों के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है. हल्दी में लाइपोपॉलिस्क्राइड (Lyposaccharides) नामक एक तत्व पाया जाता है, जो बॉडी के इम्म्यून सिस्टम को मजबूत बनता है. इसमें पाए जाने वाले जीवाणुरोधी, एंटी-वायरल और एंटी-फंगल एजेंट्स रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं.

8. अल्ज़ाइमर से बचाती है हल्दी

हल्दी में करक्यूमिन के अलावा एक और महत्वपूर्ण घटक होता है, जिसे टरमरोन कहते हैं. एक रिसर्च के अनुसार, टरमरोन दिमाग़ की कोशिकाओं की मरम्मत करने में सहायक होता है. ये स्ट्रोक और अल्ज़ाइमर जैसी बीमारियों से लड़ने में सहायक होता है. साथ ही ये करक्यूमिन व्यक्ति की याददाश्त को भी बढ़ाता है.

9. लिवर का संरक्षण करने में सहायक हल्दी

हल्दी एक प्राकृतिक लिवर डिटॉक्सीफ़ायर है. हल्दी लिवर एंजाइमों का उत्पादन करती है और ख़ून को साफ़ करती है. ये एंजाइम बॉडी में बनने वाले विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने का काम करते हैं. इससे इंसान का लिवर मजबूत रहता है और पाचनतंत्र सही तरह से काम करता है.

10. दिल को स्वस्थ रखती है हल्दी

रोज़ाना हल्दी का सेवन करने से उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) की समस्या नहीं होती. इसका सेवन आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रित करता है. इससे दिल सम्बन्धी बीमारियां आपसे दूर ही रहती हैं.

दोस्तों अब हल्दी को हलकी-फ़ुल्की समझने की ग़लती न करना क्योंकि हर बीमारी का रामबाण इलाज है हल्दी. अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया है तो, ये जानकारी अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से शेयर करने में देरी न करें.

Feature image source: newstracklive

Source: tinhtamvn