अजमेर की 800 साल पुरानी इस मस्जिद को क्यों कहा जाता है 'ढाई दिन का झोपड़ा'?