World Meteorological Organization का कहना है कि विगत 50 वर्षों में भूमि का तापमान लगभग 3 डिग्री सेल्सियस बढ़ा है. इसके अलावा, 2020 में अंटार्कटिका का तापमान 18.3 degrees Celsius दर्ज किया गया था. इससे ग्लेशियर पिघलने पर हैं और समुद्र में पानी का स्तर बढ़ता जा रहा है. वहीं, इससे तटीय क्षेत्रों में रहने वालों के लिए जोखिम बढ़ने पर है. ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से तेज़ी से हो रहा जलवायु में परिवर्तन ज़मीन पर रहने वाले जीवों के साथ-साथ समुद्री जीवों के लिए ख़तरा बनते जा रहा है. आइये, आपको तस्वीरों के माध्यम से दिखाते हैं ग्लोबल वॉर्मिंग की प्रभाव के चौंका देने वाले दृश्य. 

1. मोंटारा का आइसबर्ग ग्लेशियर. 

petapixel

2. मोंटारा का Grinnell Glacier. पहली तस्वीर 1926 की है और दूसरी 2008 की. 

petapixel

3. मोंटारा के Grinnell Glacier की एक और तस्वीर. पहली 1920 की और दूसरी 2008 की. 

petapixel

4. अलास्का का Pedersen Glacier. पहली तस्वीर 1930s की और दूसरी 2005 की. 

5. अलास्का का Carroll Glacier. पहली तस्वीर 1906 की है और दूसरी 2004 की. 

petapixel

ये भी देखें : ये 25 भयावह तस्वीरें सुबूत हैं कि धरती पर जीवन के अंत का कारण इंसान ही बनेगा

6. अलास्का का Muir Glacier. पहली तस्वीर 1890s की है और दूसरी तस्वीर 2005 की. 

petapixel

7. 1880s और 2005 के दौरान अलास्का का Muir Glacier. 

petapixel

8. California का दृश्य.  

genmice

9. अलास्का के ग्लेशियर कैसे पिघल रहे हैं साफ़ देखा जा सकता है. 

petapixel

10.बदलते Arctic Circle की एक भयावह तस्वीर. 

ये भी देखें : जलवायु परिवर्तन की 15 तस्वीरें बता रही हैं कि कैसे इंसान अपने मतलब के लिए पृथ्वी को निगल रहा है

11. इस तस्वीर के ज़रिए भी Arctic में हो रहे बदलाव को देखा जा सकता है.  

12. ये तस्वीर New Jersey की है, यहां साफ़ देखा जा सकता है कि कैसे समुद्री तट छोटे होते जा रहे हैं. 

bustle

13. Antarctica का पाइन आइलैंड ग्लेशियर. 

bustle

14. पहले और अब Alpine glaciers. 

weforum

15. धीरे-धीरे ग़ायब हो रहे हैं  Hawaiian Island. 

तो देखा दोस्तों आपने, इंसान किस तरह इस पृथ्वी को हानि पहुंचाने में लगा है. अगर ऐसा ही चलता रहा, तो पृथ्वी से जीवन का अंत होने में ज़्यादा वक़्त नहीं लगेगा.