गोमती नदी के किनारे बसा नवाबों का शहर लखनऊ पूरी दुनिया में अपनी तहज़ीब के लिए फ़ेमस है. इसीलिए इसे शहर-ए-अदब भी कहा जाता है. यहां घूमने के लिए बहुत कुछ है. लेकिन शुरुआत कहां से की जाए, अकसर लोगों को यही शिकायत रहती है. उनकी शिकायत को ध्यान में रखते हुए हमने एक लिस्ट तैयार की है. यहां कहां घूमें और क्या खाएं जैसे तमाम सवालों के जवाब आपको मिल जाएंगे.

1. इमाम बाड़ा और भूलभूलैया

Source: jagran.com

अपने टूर की शुरुआत आप इन दोनों ऐतिहासिक स्मारकों से कर सकते हैं. ये मुग़ल काल की ऐसी रचनाएं हैं, जिन्हें न सिर्फ़ देखना बल्कि एक्स्पलोर करना भी आपके दिल को सुकून दे जाएगा.

2. रूमी दरवाज़ा

Source: Patrika

60 फ़ीट के इस दरवाज़े की ख़ासियत ये है कि इसके निर्माण में कहीं भी लकड़ी व लोहे का इस्तेमाल नहीं किया गया है. मुग़ल स्थापत्य कला का ये बेजोड़ नमूना है.

3. चौक

Source: Sid the Wanderer

पुराने लखनऊ का ये इलाका अपने चिकन और ज़री के कपड़ों के लिए वर्ल्ड फ़ेमस है. यहां शाम को आप राजा जी की ठंडाई जैसे हल्के-फ़ुल्के पकावानों का भी लुत्फ़ उठा सकते हैं. लखनऊ के फ़ेमस टुंडे कबाब भी आपको यहीं मिलेंगे.

4. The Memorial Museum

Source: Hindustan Times

1857 के विद्रोह को डेडिकेटेड है ये म्यूजियम. यहां आपको इस विद्रोह के बारे में करीब से जानने को मिलेगा.

5. The British Residency

Source: Lucknow Tourism

इसका निर्माण 1780 में नवाब आसिफुद्दौला ने करवाया था. तब इसे रेजीडेंसी के नाम से जाना जाता था. 1857 में अंग्रेज़ों ने इस पर कब्जा कर लिया था, तभी से इसे The British Residency कहा जाने लगा.

6. The Lucknow Literature Festival

Source: Qaisra Shahraz

हर साल फ़रवरी और मार्च में The Lucknow Literature Festival का आयोजन किया जा सकता है. लखनवी कल्चर और साहित्य की उम्दा झलक यहां आपको देखने को मिलेगी. यहां होने वाले ऊर्दू की कविताओं के मुकाबले ऐसे होते हैं, जिन्हें आप कभी नहीं भूला पाएंगे.

7. Picture Gallery

Source: flashpackatforty.com

छोटे इमामबाड़े के सामने स्थित इस गैलरी का निर्माण मुहम्मद शाह ने करवाया था. यहां अवध के ऐतिहासिक गौरव और नवाबों से संबंधित चीज़ें संरक्षित की गई हैं.

8. जामा मस्जिद

Source: uptourism.gov.in

ये लखनऊ की सबसे बड़ी मस्जिद है. फारसी, हिंदु और मुस्लिम वास्तुकला का बेजोड़ नमूना है ये मस्जिद. इसे महोम्मद अली शाह के शासन काल में बनवावा शुरू किया गया था. ये 1845 में बनकर तैयार हुई थी.

9. लखनऊ महोत्सव

Source: Ulta Chasma Uc

लखनऊ महोत्सव का आयोजन हर साल नवबंर और दिसंबर के महीने में किया जाता है. इस महोत्सव में आप पतंगबाज़ी के साथ ही अन्य नवाबी पारंपरिक खेलों का भी आनंद उठा सकते हैं.

10. कहां ख़रीदारी करें

Source: TravelTriangle

लखनऊ के हजरतगंज बाज़ार में आपको रोज़मर्रा इस्तेमाल होने वाला सभी प्रकार का सामान मिल जाएगा. शाम को यहां की रौनक देखते ही बनती है. इसके अलावा आप चौक में भी ख़रीदारी कर सकते हैं. यहां से आप चिकन और ज़री की उम्दा कलाकारी वाले कपड़े ख़रीद सकते हैं.

लखनऊ की ट्रिप में अगली बार यहां जाना न भूलना.