"बस एक बार Degree मिल जाये और लाइफ़ सेट" 

ये बात हमने कभी ना कभी सुनी ही होगी लेकिन Education का असली मक़सद क्या होता है, ये कभी सोचा है? पढ़ाई-लिखाई का उद्देश्य सिर्फ़ लोगों का Career बनाना ही नहीं, बल्कि समाज के लिए एक अच्छा और ज़िम्मेदार नागरिक बनाना भी होता है.

Gillette का नया कैंपेन #ShavingStereotypes
भी Education से Inspire हो कर कुछ अच्छा और बड़ा करने की बात कहता है क्योंकि एक Degree आपको Qualified तो घोषित कर देती है लेकिन उस डिग्री से आप क्या करते हैं, ये आपके हाथो में होता है.

Shaving Stereotypes

ऐसी ही Inspirational कहानी है Prashant Gade की ज़िंदगी की. एक Engineer जिसने अपनी अच्छी-ख़ासी Salary वाली Corporate Job छोड़ कर दुनिया का सबसे Affordable Bionic Arm बनाया. महाराष्ट्र के एक कॉलेज में पढ़ाई करते समय ही उन्हें एहसास हो गया था कि सिर्फ़ एक Degree या Grades ही सब कुछ नहीं है और वो इस का बेहतर इस्तेमाल करना चाहते हैं.

Prashant Gade Story

एक बार Pune में वो एक 7 साल की बच्ची से मिले जो बिना हाथों के पैदा हुई थी. प्रशांत ने उसकी मदद करने के लिए कुछ Hospitals में Prosthetic Limbs के बारे में पता किया लेकिन एक हाथ का 12 लाख रुपये ख़र्चा जान कर वो हैरान रह गए. इसी के बाद उन्होंने इस फ़ील्ड में रिसर्च की और अपनी Engineering डिग्री के बदौलत दिव्यांगों के लिए Prosthetic Limbs बनाना शुरू कर दिए. Inali Foundation के ज़रिये प्रशांत कई दिव्यांगों की फ़्री में मदद करते हैं.


#ShavingStereotypes के इस Perfect Example को Gillette सलाम करता है और #EngineeringChange की इस कोशिश में, Gillette के साथ-साथ हमें भी उम्मीद है कि प्रशांत की ये कहानी कई लोगों को कुछ नया और अच्छा करने का हौसला देगी. 

'सिर्फ़ Degree के पीछे भागने से ही बेहतर ज़िंदगी मिलेगी' ये वहम दूर होना ज़रूरी है. और इस फ़िल्म में बड़ी ख़ूबसूरती से कहा गया है "ज़िंदगी के साथ-साथ, इस दुनिया को बेहतर करने की थोड़ी सी ज़िम्मेदारी हमारे हाथों में भी है"