Tips to Stay Healthy in Extreme Heat: ग्लोबल वार्मिंग के नतीजे अब साफ़ दिखने लगे हैं. हाल ही में दिल्ली में 49.2 डिग्री तापमान दर्ज हुआ, तो गुरुग्राम में 48.1 डिग्री तापमान. ऐसा ही कुछ हाल राजस्थान, महाराष्ट्र, यूपी का भी है. ऐसे में ये चिंता का विषय है कि तापमान कहीं 50 डिग्री सेल्सियस (50 Degree Temperature in Hindi) न पार कर जाए. अगर ऐसा होता है, तो बढ़ते तापमान का प्रभाव (What Happens at 50 Degree Temperature in Hindi) हमारे शरीर पर कैसा होगा?  

वहीं, इस बढ़ते तापमान की स्थिति में हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं, ये जानना भी ज़रूरी हो जाता है. इस बढ़ते तापमान का हमारे शरीर पर क्या असर होगा? और ऐसी स्थिति में हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं (Do's and Don'ts in Extreme Heat), ये सभी सवाल आपके मन में चल रहे होंगे? 

आपके इन सभी सवालों के जवाब हम इस आर्टिकल के ज़रिये आपको देने जा रहे हैं. 

आइये, अब वित्तार से पढ़ते हैं Tips to Stay Healthy in Extreme Heat. 

50 डिग्री से अधिक तापमान मानव शरीर को कैसे प्रभावित करता है - What Happens to the Human Body at 50 Degree Temperature in Hindi 

extreme-heat
Source: theconversation

What Happens if Temperature Rises 50 Degree: हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए, डॉ. सुमोल रत्न (MD, मेडिसिन और नोएडा इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर) ने बताया कि, "इंसान का शरीर गर्म मौसम का सामना करने में सक्षम हो सकता है, पर ज़्यादा तापमान शरीर पर अतिरिक्त तनाव डालता है. यही वजह है कि हम अक्सर लोगों को तेज बुख़ार, आंत और ब्लड प्रेशर संबंधी समस्याओं से पीड़ित देखते हैं." 

डॉ. सुमोल आगे बताते हैं कि, "भयंकर गर्मी के कारण (Do's and Don'ts in Extreme Heat) शरीर का तापमान ठंडा रखने के लिए शरीर को काफ़ी संघर्ष करना पड़ता है, जिसके परिणाम स्वरूप मांसपेशियों की ऐंठन (Heat Cramps), थकावट या Heat stroke जैसी समस्याओ का सामना करना पड़ सकता है." 

ये भी पढ़ें:- जानिए क्या है Heat Wave और क्या हैं इससे बचने के उपाए

क्या है हीट स्ट्रोक और क्या हैं हीट स्ट्रोक के लक्षण - What is Heat Stroke and What are the Symptoms of Heat Stroke in Hindi  

symptoms of Heat Stroke in Hindi
Source: intercoastalmedical

Do's and Don'ts in Extreme Heat : हीट स्ट्रोक जिसे Sun Stroke के नाम से भी जाना जाता है. हिन्दी में इसे लू लगना कहते हैं. ये तब होता है जब शरीर अपने तापमान को नियंत्रित नहीं कर पाता है और शरीर का तापमान तेजी से बढ़ता है, पसीने की कार्यप्रणाली (Sweating Mechanism) विफल हो जाती है और शरीर ठंडा नहीं हो पाता है. डॉ. सुमोल बताते हैं कि अधिक तापमान बढ़ने के कारण हीट स्ट्रोक का जोखिम बढ़ जाता है, इसलिए हीट स्ट्रोक के लक्षण (Heat Stroke Symptoms in Hindi) गंभीरता से लेने चाहिए. नीचे हम क्रमवार हीट स्ट्रोक के लक्षण आपको बताने जा रहे हैं: 

2. चक्कर आना 
3. पसीने की कमी होना 
4. चिपचिपी त्वचा होना 
5. मांसपेशियों में कमजोरी 
6. जी मिचलाना 
7. उल्टी होना 
8. तेज़ी से दिल धड़कना 
9. तेजी से सांस लेना
10. भ्रम 
11. बेहोशी 
12. दौरे पड़ना
13. शरीर का तापमान अधिक हो जाना 

नोट : इन सभी लक्षणों के दिखने पर डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करें. 

तापमान बढ़ने से और क्या-क्या समस्याएं हो सकती हैं - Consequences of Increased Temperature on Body in Hindi

When the Temperature Rises
Source: ndtv

Do's and Don'ts in Extreme Heat : गर्मियों के दौरान तापमान अधिक बढ़ने से शरीर को और भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जैसे : 

1. हेल्थलाइन के अनुसार, अधिक तापमान बढ़ने से निर्जलीकरण यानी डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है और डिहाइड्रेशन मानसिक क्षमता और मूड को प्रभावित कर सकता है.  
2. साथ ही हृदय प्रणाली (Cardiovascular System) पर भी अत्यधिक तनाव पड़ सकता है. 
3. अत्यधिक गर्मी के कारण किडनी, लिवर, हृदय, मस्तिष्क और फेफड़े प्रभावित होते हैं, जिससे किडनी फेल्योर, दिल का दौरा, स्ट्रोक और यहां तक कि मृत्यु क जोखिम बढ़ सकता है. 

ये भी पढ़ें:- हीट स्ट्रोक से लेकर टाइफ़ॉइड तक, जानें गर्मियों में होने वाली इन 7 बीमारियों के लक्षण और उपाय  

50 डिग्री तापमान में स्वस्थ रहने के लिए क्या करें - Do's to Stay Healthy in 50 Degree Tempreture in Hindi 

Tips to Stay Healthy in Extreme Heat in Hindi: डॉ. सुमोल रत्न ने चिलचिलाती गर्मी में ख़ुद को स्वस्थ और फ़िट रखने के लिए कुछ बातों का पालन करने की सलाह दी है, जैसे :  

Indian Drinking water
Source: science

1. भरपूर मात्रा में पानी पिएं. प्यास न लगने की स्थिति में भी थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहें. इससे शरीर हाइड्रेट रहेगा. 

2. बाहर के तले-भुने खानों से दूर रहें. घर का बना पौष्टिक आहार ही लें. 
3. पानी के अलावा, फ़लों के जूस और छाछ आदि का सेवन भी करें. 
4. गर्मियों के फल जैसे तरबूज, खरबूजा और ककड़ी आदि का सेवन करना चाहिए. 
5. हमेशा घर से बाहर निकलते समय अपने साथ पानी की बोतल याद से रखें. 
6. शरीर को ठंडा रखने के लिए हल्के कपड़े पहनें और दिन में दो बार स्नान करें. वहीं, याद रखें धूप से घर आने के बाद सीधे स्नान न करें. कुछ देर बाद स्नान करने जाएं.  
7. घर के बाहर निकलते समय चेहरे को कवर करें और साथ ही धूप का चश्मे का इस्तेमाल करें  
8. रोजाना प्राणायाम करें. दरअसल, प्राणायाम एक Breathing Exercise है और इसे रोज़ान करने से बाहर के गर्म तापमान से लड़ने में शरीर को मदद मिल सकती है. 
9. धूप में ज़्यादा देर खड़े न रहें, जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकले. 

ये भी पढ़ें:- आम से लेकर तरबूज सहित, वो 10 फल जो आपको डिहाइड्रेशन से कोसो दूर रखेंगे

50 डिग्री तापमान में स्वस्थ रहने के लिए क्या न करें - Don't to Stay Healthy In 50 Degree Temperature In Hindi 

standing in sun summer
Source: thedacare

Do's and Don'ts in Extreme Heat : 50 डिग्री तापमान में स्वस्थ रहने के लिए नीचे बताई गईं बातों का ध्यान ज़रूर रखें :  
1. जिस वक़्त गर्मी ज़्यादा हो, उस दौरान भोजन न पकाएं. साथ ही किचन के दरवाज़ा और खिड़कियां खोलकर किचन को हवादार बनाए, जिससे किचन की गर्म हवा बाहर चली जाए.  
2. उच्च प्रोटीन युक्त (High Protein Content) खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें. 
3. जंक फूड, कार्बोनेटेड पेय और बासी भोजन न करें.  
4. सिंथेटिक कपड़े ना पहने और सीधे चिलचिलाती धूप में खड़े होने से बचें. 
5. इसके अलावा, धूम्रपान और शराब से सेवन से बचें.  

गर्मी में ख़ुद को स्वस्थ रखने से जुड़ी जानकारी (Tips to Stay Healthy in Extreme Heat in Hindi) आपको कैसी लगी हमें कमेंट में बताना न भूलें. इसी तरह हेल्थ टिप्स पाने के लिए हमें फ़ॉलो करें.