पीरियड्स के वो दिन हर लड़की के लिए मुश्किल होते हैं. इस दौरान पेट दर्द, पैरों में दर्द, कमर दर्द और क्रैम्प्स जैसी समस्याएं होने लगती हैं. इसके अलावा पीरियड्स के दौरान कई महिलाओं का वज़न भी बढ़ने लगता है. वज़न बढ़ने का कारण वॉटर रिटेंशन, फ़ूड क्रेविंग्स, PMS और शरीर में मैग्नीशियम की कमी होना होता है.

Source: lifealth

इस कमी से बचने के लिए ये रहीं कुछ आसान टिप्स, जो आपको पीरियड्स के दौरान होने वाली समस्याओं और बढ़ते वज़न से छुटकारा दिलाएंगी:

1. हाई प्रोजेस्टेरोन

Source: medicalnewstoday

American College of Osteopathic Obstetricians के पूर्व अध्यक्ष और Arboretum Obstetrics and Gynecology के को-ओनर Dr. Octavia Cannon कहते हैं, आपका पीरियड का समय शुरू होने से पहले आपके Ovaries से जारी एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन बहुत उच्च होते हैं जिससे भूख ज़्यादा लगती है. इससे वज़न बढ़ने का ख़तरा रहता है.

2. लो सेरोटोनिन

Source: youngisthan

Cannon के अनुसार, आपका मस्तिष्क इस दौरान आपके शरीर पर हावी हो जाता है. इसलिए जब एस्ट्रोजन का लेवल गिरता है और पीरियड्स में ब्लीडिंग शुरू होती है, तो ये शरीर के सेरोटोनिन स्तर को भी गिरा देता है. सेरोटोनिन का स्तर कम होने से चीनी खाने का मन होता है, जो वज़न बढ़ने का कारण बनता है.

3. प्यास ज़्यादा लगती है

Source: elitedaily

माउंट सिनाई हेल्थ सिस्टम के साथ OB-GYN Dr. Praise Augustus के अनुसार, पीरियड्स हार्मोन आपकी भूख को कम नहीं करते, बल्कि पानी पीने की क्षमता को बढ़ा देते हैं. इस दौरान बहुत ज़्यादा प्यास लगती है. अगर आप सोडियमयुक्त चिप्स खाएंगी, तो आपको और ज़्यादा प्यास लगेगी.

4. इंसुलिन प्रतिरोध

Source: vox

अगर आपको पीरियड्स के दौरान ज़्यादा मीठा खाने का मन होता है, तो प्रोजेस्टेरोन की वजह से हो सकता है. Augustus के अनुसार, प्रोजेस्टेरोन इंसुलिन प्रतिरोध को बढ़ाता है, जिससे मीठा खाने का मन होता है और ये वज़न बढ़ने का कारण बनता है. इसके अलावा जिन महिलाओं को डायबिटीज़ होती है वो इस बात को अच्छे से समझ पाती हैं.

5. मैग्नीशियम ड्रॉप

Source: news

Cannon का कहना है कि, आपकी अवधि के पहले दिन के आसपास आपके शरीर का नैचुरल मैग्नीशियम स्तर गिरता है. मैग्नीशियम शरीर में पानी के स्तर को कंट्रोल करता है. इसलिए अगर मैग्नीशियम का स्तर गिरता है, तो इससे Dehydration हो सकता है. इसलिए पीरियड्स के दौरान पानी ख़ूब पियें.

6. मूवमेंट कम करें

Source: rubycup

हार्मोन के स्तर में उतार-चढ़ाव होने पर, आप PMS के लक्षण जैसे थकान, सूजन और ऐंठन महसूस कर सकती हैं. ऐसा होने पर एक्सरसाइज़ का मन नहीं करता, जिससे वज़न बढ़ने की समस्या खड़ी होती है. रिसर्च के अनुसार, आठ हफ़्ते तक एरोबिक एक्सरसाइज़ करने से PMS के लक्षण कम हो सकते हैं.

7. मेडिकल कंडीशन

Source: fitbynet

Augustus के अनुसार, जब पीरियड्स आने के समय से पहले से ही वज़न बढ़ने लगता है, तो पीरियड आने पर ब्लड के फ़्लो के कारण घटने भी लगता है. कुछ महिलाओं का वज़न इसलिए भी बढ़ता है क्योंकि वो कैलोरी की मात्रा ज़्यादा लेती हैं. अगर आपका वज़न लगातार बढ़ रहा है, तो डॉक्टर से भी सलाह लें. ऐसे में Premenstrual Dysmorphic Disorder, Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) और Hypothyroidism के लक्षण हो सकते हैं.

पीरियड के दर्द के साथ अब वज़न बढ़ने की समस्या से छुटकारा मिलेगा. Lifestyle से जुड़े और भी आर्टिकल पढ़ने के लिए क्लिक करें.