हवाई जहाज में सफ़र करना थोड़ा डरावना तो होता है. क्योंकि, ज़मीन पर कुछ हो, तो तुरंत अस्पताल वगैरह की सुविधा मिलने की उम्मीद रहती है, मगर आसमान में तो कोई हॉस्पिटल भी नहीं बना. उस पर अगर किसी की मौत हो जाए, तब क्या होगा? (What Happens When Someone Dies On A Plane?)

plain
Source: mirror

सोचकर भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं. मगर सच्चाई तो ये है कि जितना ये सोचना डरावना लग रहा है, उससे भी ख़तरनाक हक़ीक़त है. ऐसा क्यों है, आज हम आपको बताएंगे. 

What Happens When Someone Dies On A Plane?

दरअसल, आप सोचते होंगे कि अगर कोई मर भी गया, तो इमेरजेंसी लैडिंग करवाई जाएगी. जबकि ऐसा नहीं है. सच्चाई ये है कि बस घटना की रिपोर्ट कर दी जाती है. बाकी फ़्लाइट अपने गंतव्य स्थान पर ही उतरती है. साथ ही, ऐसे मामलों में एक पायलट और चालक दल को क्या करना चाहिए, इसके लिए कोई उचित और कड़े नियम नहीं हैं. पायलट ही तय करता है उसे क्या करना है.

flight
Source: arynews

बता दें, हर प्लेन में वैसे इमेरजेंसी इक्यूपमेंट्स होते हैं और फ़्लाइट अटेंडेंट को CPR की ट्रेनिंग भी मिलती है. हालांकि, इसके बावजूद कोई मर जाता है, तो फ़ोकस प्लेन में सिचुएशन को नॉर्मल रखने पर शिफ़्ट हो जाता है. यहां तक मृतक को सीट पर ही छोड़ा जाता है.

इस बात का खुलासा फ़्लाइट अटेंडेंट रह चुकीं शीना मैरी नाम की एक टिकटॉक यूज़र ने किया था. उसने बताया कि अगर चीज़ें ठीक नहीं होती हैं, तो हम फ़ाइनल डेस्टिनेशन पर पहुंचने तक इंतज़ार करते हैं.

Sheena Marie
Source: dailystar

What Happens When Someone Dies On A Plane?

उसने कहा, 'अगर किसी को दिल का दौरा पड़ता है और मौत हो जती है. तो हम इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते हैं. हम बस अपने फ़ाइनल डेस्टिनेशन तक पहुंचने का इंतज़ार करते हैं.'

हालांकि, कुछ लोगों को लगता है कि बॉडी को बाथरूम में रख देते हैं, जबकि ऐसा नहीं है. लाश को सीट पर ही रख दिया जाता है. इसके बाद वो सीट को पीछे की तरफ थोड़ा सा खिसका देते हैं और पैर से लेकर गर्दन तक शरीर को ढक देते हैं. वो चेहरे को नहीं ढकते. बस आंखें बंद कर देते हैं. अगर कोई यात्री पूछता है कि शख़्स को क्या हुआ है, तो उसे सच भी बता दिया जाता है.

Found dead in plain
Source: api

ये भी पढ़ें: अगर उड़ते विमान में कोई बच्चा पैदा होता है, तो उसके बर्थ सर्टिफ़िकेट में जन्मस्थान क्या दर्ज होगा?

इस पर भी डरावना ये है कि अगर प्लेन को में जगह नहीं है, तो दूसरे यात्रियों को बाकी की यात्रा एक लाश के साथ करनी पड़ती है.