एस्ट्रोनॉट यानी अंतरिक्ष यात्री के बारे में तो आप जानते ही होंगे, वही जो धरती से कई मीलों दूर ब्रह्मांड से जुड़े राज़, मानव जाति के लिए विभिन्न संभावनाओं व अन्य चीज़ों का पता लगाने के लिए अंतरिक्ष का सफ़र करते हैं. इनकी दुनिया भी कई दिलचस्प तथ्यों से भरी पड़ी है. उनमें से एक तथ्य ये है कि जब एस्ट्रोनॉट अंतरिक्ष से धरती पर आते हैं, तो वो ठीक से चल नहीं पाते हैं यानी उन्हें चलने में दिक्कत का सामना (why astronauts can't walk after landing) करना पड़ता है. ऐसा क्यों होता है, वो हम आपको अपने इस लेख में बताएंगे. 

आइये, अब जानते हैं कि आख़िर क्यों अंतरिक्ष से लौटने के बाद अंतरिक्ष यात्री ठीक से चल नहीं पाते (why astronauts can't walk after landing) 

अंतरिक्ष में बदल जाती हैं सारी चीज़ें  

Astronaut
Source: worldatlas

जब धरती से एक एस्ट्रोनॉट अंतरिक्ष में जाता है, तो उसे ज़ीरो ग्रेविटी में रहना पड़ता है. ज़ीरो ग्रेविटी की वजह से उसकी कई चीज़ें बदल जाती हैं, जैसे वो चल नहीं सकता. स्पेस स्टेशन के अंदर एक एस्ट्रोनॉट को हवा में तैरकर ही अपने सारे काम करने होते हैं. उनके खाने-पीने का तरीक़ा बदल जाता है. यहां तक कि उनकी मल निकासी की प्रकिया भी अलग हो जाती है. 

वहीं, जितना बड़ा मिशन उतने ज़्यादा दिन अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में बिताने होते हैं. वहीं, जब वो महीनों का अंतरिक्ष सफ़र पूरा कर धरती पर लौटकर आते हैं, तो उनके पैर लड़खड़ाते हैं यानी उन्हें चलने में दिक़्क़त होती है. उनके पैर ठीक से ज़मीन पर जम नहीं पाते हैं. इसलिए, धरती पर चलने के मानवीय तरीक़े में आने तक उन्हें सहारा लेना पड़ता है.  

क्यों होता है ऐसा?  

astronaut
Source: theguardian
astronaut
Source: nasa

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि अंतरिक्ष में एस्ट्रोनॉट चल नहीं सकता(why astronauts can't walk after landing). उसे अपने सारे काम तैरकर ही करने होते हैं. वहीं, इस माहौल में महीनों तक अंतरिक्ष में रहने की वजह से उनकी पैरों की मासपेशियां इनएक्टिव हो जाती हैं और कमज़ोर हो जाती है. इस वजह से वो जैसे ही अंतरिक्ष मिशन पूरा कर धरती पर लौटते हैं, तो उन्हें धरती की सतह पर पैर जमाने में दिक्कत होती है. उन्हें गोद में उठाकर या सहारे से साथ ले जाया जाता है. 

 धरती के माहौल में उन्हें वापस आने में थोड़ा वक़त लगता है. ये वक़्त महीनों भर भी हो सकता है. इसलिए, एस्ट्रोनॉट को स्पेसस्टेशन में वर्कआउट करने की सलाह दी जाती है ताकि जब वो धरती पर आएं, तो उन्हें ज़्यादा दिक्कत का सामना न करना पड़े. माना जाता है कि अगर एस्ट्रोनॉट स्पेसस्टेशन में एक्सरसाइज़ न करें, तो दो हफ़्तों में उनका मसल्स मास 20 प्रतिशत तक कम हो सकता है. हालांकि, इस पर अभी और सटीक प्रमाण की आवश्यकता है.  

एस्ट्रोनॉट की मेडिकल जांच  

astronaut
Source: vice

अंतरिक्ष मिशन के बाद जब अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में आते हैं, तो उन्हें कई दिक्कतों को सामना करना पड़ता है. जैसे शरीर का संतुलन बनाए रखने में दिक्कत और ब्लड प्रेशर का उतार-चढ़ाव. इसके अलावा, देखने में उन्हें परेशानी होती है. इसलिए, उन्हें मेडिकल टेस्ट और कई घंटों तक ऑब्ज़रवेशन में रखा जाता है.  

अंतरिक्ष यात्री Scott Kelly  

यूट्यूब पर एक वीडियो उपलब्ध है जिसमें अंतरिक्ष मिशन से लौट कर आए अमेरीकी अंतरिक्ष यात्री Scott Kelly को चलने में दिक्कत का सामना करते देख साफ़ देखा जा सकता है. वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि उन्हें चलना तो दूर खड़े रहने में भी परेशानी हो रही थी. वहीं, डॉक्टरों को निगरानी में 6 घंटे के बाद भी उनके चलने की परेशानी बरक़रार थी. वहीं, 22 घंटों बाद वो खड़े और चल पाने में थोड़ा बहुत ठीक हुए थे.