ट्रेन को सबसे बड़े और उपयोगी आविष्कारों में से एक माना जाता है. इसके आविष्कार के बाद यात्रा करना काफ़ी ज़्यादा आसान हो गया. भारतीय ट्रेनों की बात करें, तो यहां प्रतिदिन लाखों की तादाद में लोग रोज़ाना सफर करते हैं. यात्रा सुगम और सुरक्षित हो, इसके लिए कई छोटे बड़े इंतज़ाम किये जाते हैं. इनमें ख़ास पटरियों के साथ-साथ विभिन्न चिह्नों का भी प्रयोग किया जाता है. देखा जाए, तो ट्रेन की दुनिया कई छोटे-बड़े रोचक तथ्यों से भरी पड़ी है और इनमें से एक के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं कि क्यों रेलवे स्टेशन के बोर्ड पर समुद्र तल से ऊंचाई लिखी होती है.    

समुद्र तल से ऊंचाई  

rail sea level height
Source: hindustantimes

अगर आप गौर से देखें, तो पाएंगे कि हर रेलवे स्टेशन के बोर्ड पर उस स्टेशन की समुद्र तल से ऊंचाई लिखी होती है. जैसे HT Above MSL 79.273 M. वैसे यह यात्रियों के लिए नहीं लिखा जाता है, बल्कि यह ट्रेन को चलाने वाले चालक और गार्ड के लिए ज़रूरी होता है.   

रेल की रफ़्तार के लिए मददगार

train
Source: railway-technology

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि समुद्र तल से ऊंचाई ट्रेन के चालक और गार्ड के लिए लिखी जाती है. इससे ट्रेन चलाने वाले ड्राइवर को पता चल जाता है कि ट्रेन ऊंचाई वाले स्थान की ओर बढ़ रही है या निचले स्थान की ओर. इससे ट्रेन की स्पीड को नियंत्रित या सही रखने में चालक को मदद मिलती है.  

ट्रेन का इंजन 

train engine
Source: traveltriangle

इसके साथ ही ट्रेन के चालक को यह भी मालूम हो जाता है कि उन्हें ट्रेन के इंजन को कितनी पावर सप्लाई करनी है, ताकि ट्रेन आसानी से ऊंचाई वाले स्थान की ओर बढ़ सके.

ज़्यादा पावर सप्लाई   

railway station board
Source: chaltapurza

निचले स्थान की तुलना में ऊंचाई वाले स्थान के लिए ट्रेन के इंजन को ज़्यादा पावर सप्लाई की ज़रूरत होती है. इसलिए, समुद्र तल से ऊंचाई रेलवे स्टेशन बोर्ड पर लिखी जाती है. वहीं, ट्रेन अगर निचले भाग पर जा रही है, तो ड्राइवर को कितना फ़िक्शन लगाना होगा, यह जानकारी भी ट्रेन चालक को समुद्र तल से ऊंचाई के ज़रिए मिल जाती है.

समुद्र तल का सहारा

railway station board
Source: patrika

ये तो आपको पता ही होगा कि पृथ्वी गोल है और इस वजह से पृथ्वी की सतह थोड़ी कर्व हो जाती है. इसलिए, धरती की ऊंचाई नापने के लिए एक ऐसे बिंदू की ज़रूरत होती है, जो हमेशा समान रहे. इसके लिए समुद्र तल का सहारा लिया जाता है. समुद्र तल की मदद से सही ऊंचाई की गणना करना बेहद सरल है.