क्या आपको कभी किसी ने धोखा दिया है? मुझे लगता है कि हर किसी ने अलग-अलग तरह से इसे ज़रूर महसूस किया होगा. धोखा खाने से बड़ा नुकसान किसी व्यक्ति के लिए कुछ नहीं हो सकता है. धोखा आपको हमेशा ज़्यादा दुःख पहुंचता है क्योंकि ये हमेशा आपको आपके क़रीबी इंसान से जो मिला होता है.

विश्वासघात या धोखा तब होता है जब आप जिस पर भरोसा करते हैं वो आपसे झूठ बोलता है, धोखा देता है, एब्यूज करता है, या अपना स्वार्थ पहले रखकर आपको चोट पहुंचाता है. धोखा इंसान के साथ कई रूपों में होता है. एक बच्चा जिसे अपने माता-पिता से प्यार मिलना चाहिए बजाय इसके उसे दुर्व्यवहार मिल रहा है, एक पति का अपनी पत्नी को धोखा देना, आपके दोस्त का आपको झूठ बोलना.

trust
Source: openbusinesscouncil

अब ज़ाहिर है आपके विश्वास को किसी तोड़ा है तो आप दुःख ज़रूर महसूस करेंगें. ऐसे में ये जो दुःख आप महसूस करते हैं या ये जो हलचल आपके भीतर चलती रहती है, ये आपके दिमाग़ का सारा किया हुआ होता है.

जैसे ही आपके दिमाग़ को पता चलता है कि आपके साथ धोखा हुआ है, आपके दिमाग़ के दो हिस्से हरक़त में आ जाते हैं. एमीग्लाडा और हिप्पोकैम्पस. एमीग्लाडा जो हमारे इमोशनल भाव जैसे ग़ुस्सा, डर, टेंशन और दुःख का ज़िम्मेदार है और हिप्पोकैम्पस जो कि मेमोरी का ध्यान रखता है.

sad
Source: aeon

तो जैसे ही आपको दुःख महसूस होता है एमीग्लाडा तुरंत सक्रिय हो जाता है और रसायन भेजने लगता है. और क्योंकि हमारे विश्वास को चोट पहुंची होती है तो ऑक्सीटोसिन नामक रसायन जो कि हमें खुश, सुरक्षित या भरोसा महसूस करवाता है का रिसाव कम हो जाता है. ऐसे में हमें बेहद दुखी हो जाते हैं.

क्योंकि हमारा दिमाग़ हमें हर मुसीबत से बचाने के लिए होता है तो ऐसे में हिप्पोकैम्पस हमारी इस मेमोरी का हिस्सा बना इसे स्टडी करता है ताकि आने वाले समय में हम भरोसा करने से पहले अच्छे से सोच लें.

क्योंकि हमारा दिमाग़ हमें हर मुसीबत से बचाने के लिए होता है तो ऐसे में हिप्पोकैम्पस हमारी इस मेमोरी का हिस्सा बना इसे स्टडी करता है ताकि आने वाले समय में हम भरोसा करने से पहले अच्छे से सोच लें.