जयपुर में रहकर सब घूम लिया और किसी ऐसी जगह की तलाश में हैं जो ऐतिहासिक भी हो और आधुनिक भी? तो, इसका एक ही जवाब है नीमराना फ़ोर्ट. जयपुर से 150 किलोमीटर दूर बने इस क़िले को पहाड़ को काटकर बनाया गया है. इसका इतिहास पृथ्वीराज चौहान से जुड़ा है और वर्तमान में इसे एक रिसॉर्ट की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है. मतलब नीमराना में आप राजसी ठाट-बाट के साथ छुट्टियां मना पाएंगे और इतिहास से भी रूबरू हो पाएंगे. 

neemranahotels

नीमराना क़िले को 1464 में अरावली की पहाड़ियों को काटकर बनाया गया था. ये क़िला राजस्थान के अलवर में दिल्ली-जयपुर हाईवे पर बना है. इसमें कभी राजपूत महाराजा पृथ्वीराज चौहान ने भी राज किया था. लेकिन आज़ादी के बाद इसे ऐसे ही छोड़ दिया गया था और ये क़िला खंडहर में तब्दील होने लगा था. लेकिन बाद में इसका नवनिर्माण किया गया.

डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए है परफ़ेक्ट प्लेस

booking

सन 1987 में इसका फिर से जीर्णोद्धार किया गया और इसे एक होटल-रिसोर्ट में बदल दिया गया. ये अब देश के बेस्ट हेरिटेज होटल्स में से एक है. ये आज डेस्टिनेशन वेडिंग करने के लिए परफ़ेक्ट प्लेस बन गया है. यहां घूमने वाले लोग इस क़िले की खूबसूरत तस्वीरें अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर शेयर कर ख़ूब लाइक्स बटोरते हैं. 

ये भी पढ़ें: भारत के काले ताजमहल के बारे में सुना है, तस्वीरों के ज़रिये इस नायाब इमारत की सैर कर लीजिये

natgeotraveller

इस आलीशान क़िले में एक बावड़ी भी है जो देश की सबसे गहरी और सुंदर बावड़ियों में से एक है. इस बावड़ी के बारे कुछ लोग कहते हैं कि ये हॉन्टेड है. 

विंटेज कार में सफ़र करें

wikipedia

अगर आपको घूमने फिरने के साथ-साथ विंटर कारों का शौक भी है तो ये जगह आपके लिए परफ़ेक्ट है. नीमराना फ़ोर्ट में आपको रहने के लिए एक से बढ़कर एक लग्ज़री रूम मिल जाएंगे. इस दौरान आपको विंटेज कार में सफ़र करने का भी मौक़ा मिलेगा. 

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान भी है नज़दीक

indiashine

नीमराना फ़ोर्ट से कुछ ही थोड़ी पर है सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान. आप यहां बंगाल टाइगर के दर्शन कर सकते हैं. इसके अलावा पास में ही ‘केसरोली क़िला भी है. दिल्ली से अलवर के लिए आपको बस और ट्रेन मिल जाएगी. यहां पहुंचने के लिए आपको अलवर से बस या फिर टैक्सी से नीमराना शहर तक का सफ़र पूरा करना होगा. 

तो सोच क्या रहे हो! आज ही अपने दोस्तों के साथ ‘नीमराना फ़ोर्ट’ जाने का प्लान बना लो.