दुनियाभर की टेंशन दूर करने की एकलौती मेडिसन चाय है. चाय की एक चुस्की अलसियाए शरीर में एकदम फ़ुर्ती भर देती है. भारत ही नहीं, दुनियाभर में चाय के आशिक़ जगह-जगह मिल जाएंगे. यूं तो नुक्कड़-चौराहों पर 10-20 रुपये गर्मागर्म एक प्यारी चाय का मज़ा लिया जा सकता है. मगर आज हम जिन चाय के बारे में बताने जा रहे हैं, उनकी क़ीमत लाखों रुपये में है. 

तो आइए बताते हैं आपको दुनिया की 10 सबसे महंगी चाय के बारे में-

1. टिएनची फ़्लावर टी

TIENCHI FLOWER TEA
Source: glamournepal

टिएनची फूल की चाय सेहत के लिए काफ़ी अच्छी मानी जाती है. हरे रंग की ये चाय दिखने में ब्रोकली जैसी लगती है. टेस्ट इसका मीठा लगता है. सूजन को कम करने, गले में खराश ख़त्म करने और डिटॉक्सीफ़ाइंग समेत कई अन्य लाभ इस चाय को पीने से होते हैं. एक किलो चाय की क़ीमत क़रीब 13 हज़ार रुपये है.

ये भी पढ़ें: इन 13 अतरंगी चीज़ों पर अमीर लोग अपना पैसा पानी की तरह बहा देते हैं

2. सिल्वर टिप्स इंपीरियल टी 

SILVER TIPS IMPERIAL TEA
Source: twodogteablog

सिल्वर टिप्स इंपीरियल दार्जिलिंग में मकाईबारी टी एस्टेट की सबसे महंगी चाय है. इसे पूर्णिमा के दौरान ही तोड़ा जाता है. ये चाय सीमित मात्रा में बेची जाती है और आमतौर पर इसकी कीमत 30 हज़ार रुपये प्रति किलो होती है. हालांकि, 2014 में, यूके, यूएसए और जापान के 3 खरीदारों ने इसके लिए 1.40 लाख रुपये भी चुकाए थे. इसकी सुगंध तो अच्छी होती ही है. साथ ही, इस चाय को पीने से एंटी एजिंग एफ़ेक्ट और बॉडी को आराम भी मिलता है.

3. ग्योकुरो 

GYOKURO
Source: laboratorioespresso

ग्योकुरो एक जापानी ग्रीन टी है. इसे सभी चायों में सबसे बढ़िया माना जाता है. इसे तैयार करने का एक ख़ास तरीक़ा है. दरअसल, जब इनकी कटाई होती है उससे 20 दिन पहले ही इन्हें धुप से दूर कर देते हैं. इससे इनके अंदर एमिनो एसिड बन जाता है जो इसे इसका विश्व प्रसिद्ध स्वाद देता है.इसकी सुगंध तेज़ और टेस्ट में मीठी होती है. इसे पीने से दांत संबंधी बीमारियां नहीं होती. साथ ही, कैंसर को रोकने में भी फ़ायदेमंद है. इस चाय के एक किलो के लिए आपको क़रीब 49 हज़ार रुपये चुकाने पड़ेंगे.

4. पू पू टी

POO POO PU-ERH TEA
Source: servingjoy

1950 के दशक में चीन में इस चाय को बनाया गया था. इस चाय में कीड़ों के मल-मूत्र का शामिल किया जाता है. मगर हेल्थ के लिए ये काफ़ी अच्छी है, इसलिए दुनियाभर में इसकी मांग है. एक किलो चाय का दाम 76 हजा़र रुपये है.

5. येलो गोल्ड बड्स 

YELLOW GOLD TEA BUDS
Source: wordpress

पीली गोल्ड टी चीनी सम्राटों के बीच काफ़ी लोकप्रिय रही है. इस पर 24-कैरेट सोने का लेप चढ़ा रहता है. सेहत के लिए अच्छी माने जाने वाली ये चाय दिखने में सुनहरे रंग की होती है. इस चाय की प्रोडक्शन साल में बस एक ही बार की जाती है. सिर्फ एक दिन किसी ख़ास जगह इसे तोड़ने जाया जाता है. साथ ही, ये सिर्फ़ सिंंगापुर में ही बेची जाती है. एक किलो की क़ीमत 2.28 लाख रुपये है.

6. टाईगुआनयिन 

TIEGUANYIN TEA
Source: wikimedia

टाईगुआनयिन चाय का नाम एक बौद्ध देवी गुआन यिन के नाम पर रखा गया था. इसे ब्लैक टी और ग्रीन टी के बीच की चाय माना जाता है. इसका स्वाद ग़ज़ब का होता है. इस चाय की भी क़ीमत क़रीब 2.28 लाख रुपये प्रति किलो है.

7. विंटेज नार्किसस व्यू ऊलोंग टी 

VINTAGE NARCISSUS
Source: amazonaws

इस चाय का नाम एक ग्रीक पौराणिक शख़्सियत पर रखा गया है. ये वूई पर्वत से आने वाली एक महंगी और दुर्लभ ऊलोंग चाय है. इसे लंबे वक़्त तक स्टोर किया जा सकता है. इसका स्वाद मिक्स सा है, जिसमें लकड़ी, चॉकलेट और फूल जैसा टेस्ट आता है. दुर्लभ और अनोखो होने के कारण इस चाय के एक किलो के लिए आपको क़रीब 5 लाख रुपये देने होंगे.

8. पीजी टिप्स डायमंड टी 

PG TIPS DIAMOND TEA BAG
Source: luxurylaunches

पीजी टिप्स टी बैग को पहली बार ब्रिटिश चाय कंपनी पीजी टिप्स ने 2005 में मैनचेस्टर चिल्ड्रन हॉस्पिटल के लिए फ़ंड जुटाने के अभियान के रूप में पेश किया था. इस टी बैग में 280 डायमंड लगे हुए होते हैं. साथ ही, एक टी बैग बनाने में कम से कम 3 महीने का समय लगता है. डायमंड के पैकेट में बिकने वाली इस चाय की कीमत 11 लाख रुपये से ज़्यादा है.

9. पांडा डंग टी

PANDA DUNG TEA
Source: webflow

चीन की ये चाय किसी आम खाद से उगाकर नहीं बनाई जाती, बल्कि इसे पांडा के मल द्वारा बनाया जाता है. कहते हैं कि ये भले ही गंदा लगता हो, लेकिन ये तरीका केमिकल वाली दवाईयों से चाय उगाने से ज्यादा अच्छा है. इस चाय की कीमत लगभग 53 लाख रुपये प्रति किलो है.

10. दा होंग पाओ 

DA-HONG PAO TEA
Source: sundayguardianlive

चीन में उगाई जाने वाली ‘दा होंग पाओ’ चाय दुनिया में सबसे महंगी चाय है. इसे आज भी सदियों पुराने चीनी तरीकों से उगाया जाता है और यह पूरी तरह प्राकृतिक होती है. माना जाता है कि मिंग शासन के दौरान इस चाय की उत्पत्ति हुई. कहते हैं कि इस चाय को पीने से कई गंभीर बीमारियां दूर हो जाती है. इसे काफ़ी कम मात्रा में उगाया जाता है. इस चायपत्ती की कीमत क़रीब 9 करोड़ रुपए प्रति किलो है.