केंद्र में आने के बाद से ही सरकार हर दिन किसी न किसी बड़े बदलाव की बात करते हुए और लोगों को नए-नए सपने दिखाती है. सरकार के इन सपनों से भारतीय रेलवे भी अछूता नहीं है, जहां कभी अच्छी सर्विस के नाम पर, तो कभी घाटे में चल रही व्यवस्था के नाम पर हर दूसरे महीने किराये में बढ़ौतरी कर दी जाती है.

बुलेट ट्रेन के सपने को पूरा करने के करीब पहुंच चुकी रेलवे आज भी बुनियादी सुविधाओं को पहुंचाने में नाकाम दिखाई दे रही है. कुछ दिनों पहले ही CAG ने रेलवे के खाने को इंसानों के लायक नहीं बताया था कि मंगलवार को पूर्वा एक्सप्रेस में परोसे गए खाने में छिपकली मिली है.

ख़बरों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश जा रहे तीर्थयात्रियों के एक समूह ने रेलवे किचन से खाने का ऑर्डर दिया, जिसमें में छिपकली मिलने की बात सामने आई. ख़बर है कि इस खाने को खाने से एक व्यक्ति बीमार भी हो गया. इस बारे में जैसे ही ख़बर फैलने लगी कि रेलवे के एक कर्मचारी ने खाने को ट्रेन से बाहर फेंक दिया.

यात्रियों ने इस बाबत रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट भी किया, जिसके बाद मुगलसराय स्टेशन पर ट्रेन रोक कर लोगों को मेडिकल सहायता भी पहुंचाई गई. मौके पर पहुंचे रेलवे के ऑफिसर किशोर कुमार का कहना है कि 'यात्रियों के स्वास्थ्य के साथ किसी भी तरह का खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. हम मामले की जांच करेंगे और दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करेंगे.

Source: firstpost