प्यार होने का कोई सेट पैरामीटर नहीं है. किसी को पहली नज़र में होता है, तो किसी को पहली नज़र में नासूर की तरह चुभने वाले से, महीनों बाद प्यार हो जाता है. लेकिन कुछ कहानियां अलग होती है, उनमें रब की मर्ज़ी पहले से ही दिखती है.

Logical Indian पर अपने बेहद ख़ास प्यार की कहानी शेयर की है एक प्यारे से कपल ने. ये 9 साल पहले एक मेडिकल कन्वेंशन में मिले. आप कहेंगे कि इसमें ख़ास क्या है? ख़ास बड़ी अजीब सी चीज़ें हैं. इन दोनों का एक्सीडेंट मुंबई की उसी रोड पर, उसी गाड़ी से हुआ और चोट भी एक ही जगह लगी थी, स्पाइनल कॉर्ड में. बस फ़र्क था कि दोनों के एक्सीडेंट 3 साल के अंतराल में हुए थे. यूं कहिये कि ये 'प्यार आउट ऑफ़ ट्रैजेडी' था.

इतना कुछ कॉमन था, तो दोस्ती कैसे न होती? दोनों मिलने लगे, बातें करने लगे, बातें और लम्बी बातों में बदल गयी. सुबह 4 बजे तक बातें चलती थीं. फिर मिलने भी लगे, कभी कॉफ़ी के बहाने, कभी मूवी देखने के लिए.

यहां एक बात ज़रूर बताना चाहूंगी कि ये दोनों ही व्हीलचेयर पर थे. लेकिन मजाल किसी चीज़ की, जो इनके परवान चढ़ते प्यार के बीच में आ जाये! दोनों रेस्टोरेंट्स में खाना खाने जाते, तो लोग ख़ुद-ब-ख़ुद उनकी मदद को आ जाते.

ये इस प्यार का इज़हार नहीं कर पाते, अगर मैडम को कुछ दिनों के लिए देश से बाहर न जाना पड़ता. दोनों ने इस दौरान एक-दूसरे को ख़ूब मिस किया. मैडम कभी-कभी ISD कॉल कर दिया करतीं. जब वापस आई, तो दोनों ने कह ही दिया...

डेट करने लगे और 7 सालों में रिश्ता और मज़बूत हो गया. सर को मैडम बहुत पसंद थी, वो उनके साथ ख़ुद को सबसे ज़्यादा ख़ुश पाते थे और उन्हें लगता था कि वो उन्हें बेहतर इंसान बनाती है. फिर क्या था? शादी के लिए प्रपोज़ कर दिया. वो उनकी हर छोटी-छोटी ख़ुशी को संवार कर रखती. पुराने Messages को संभाल करती थी.

जब घर में शादी की बात की, तो मैडम के पापा ने पूछा कि दोनों कैसे मैनेज कर पाओगे? 'इस हालत में'? इनके लिए प्यार बड़ी चीज़ थी, बाक़ी सब कमियां इसके आगे बहुत छोटी थीं. दोनों साथ हो लिए और एक ख़ूबसूरत रिश्ते को आगे बढ़ाया.

दोनों शादी के बाद अकेले गोवा घूमने भी गए. सबको लग रहा था कि दोनों अकेले कैसे मैनेज करेंगे, लेकिन इनके लिए ये सबसे अच्छी ट्रिप्स में से एक थी.

ऐसे प्यार को किसी की नज़र न लगे!