किसी भी मां-बाप के लिए इससे बढ़ी ख़ुशी और गर्व की बात क्या होगी कि उनका बच्चा पूरे इंडिया में सबसे अधिक नंबर लाये और पहले स्थान पर पहुंचे. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के शुभ अग्रवाल ने अपने पेरेंट्स सहित पूरे लखनऊ का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है. शुभ ग्यारहवीं कक्षा के एक होनहार स्टूडेंट हैं. 

उन्होंने SAT के एग्जाम में 1600 में से 1590 मार्क्स प्राप्त कर मां-बाप का नाम रौशन किया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि संयुक्त राज्य अमेरिका की यूनिवर्सिटीज़ या कॉलेजेज़ सहित 175 देशों की यूनिवर्सिटीज़ प्रवेश पाने के लिए के सैट (SAT) का एग्ज़ाम देना पड़ता है.

Source: hindustantimes

आपको ये जानकर ख़ुशी होगी कि लखनऊ के किसी स्टूडेंट ने पहली बार इस एग्ज़ाम में इतना अच्छा प्रदर्शन किया है. माना जा रहा है कि शुभ को मिले मार्क्स अभी तक इंडिया के किसी स्टूडेंट को SAT में मिले मार्क्स में सबसे अधिक हैं. ये एग्ज़ाम इसी साल की 21 जनवरी को हुआ था. SATका ये एंट्रेंस एग्ज़ाम अमेरिका के कॉलेज बोर्ड द्वारा आयोजित किया जाता है और इसी के आधार पर अमेरिका और दूसरे देशों के कॉलेजेज़ और यूनिवर्सिटीज़ में स्टूडेंट्स को दाखिला मिलता है.

Hindustan Times से बात करते हुए, गोमती नगर स्थित City Montessori School में 11वीं क्लास में पढ़ने वाले शुभ कहते हैं, 'अपनी इस सफ़लता के बाद अब मैं न केवल अमेरिका के बेस्ट और अच्छे कॉलेजेज़ और साथ ही स्टैनफोर्ड, CalTech, हार्वर्ड, मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) और अन्य में एडमिशन ले पाऊंगा, बल्कि मुझे वहां पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप भी मिल जायेगी.' शुभ ने बताया कि मैं एस्ट्रो फिजिक्स में रिसर्च करना चाहता हूं. इसके लिए हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में दाखिला लेना है. हार्वर्ड में सैट के स्कोर के आधार पर आवेदन किया जाता है. अगले साल यूनिवर्सिटी में आवेदन करुंगा.'
Source: hindustantimes

आपको बता दें कि शुभ के पिता शैलेश अग्रवाल और मां मृदुला अग्रवाल दोनों ही डॉक्टर हैं. शैलेश अग्रवाल ने बताया कि बचपन से ही शुभ का साइंस में रुझान था, इसलिए हमने भी शुभ को इसी में आगे बढ़ाने का निर्णय लिया है. इस एग्ज़ाम में शुभ को मैथ्स में 800 में से 800 और इंग्लिश सेक्शन में 800 में से 790 मार्क्स मिले हैं. ऐसा भी हो सकता है कि 16 वर्षीय शुभ को इस टेस्ट में दूसरे नंबर पर सबसे अधिक मार्क्स मिले हैं.

ये टेस्ट चार भागों में हुआ था, जिसमें 2 टेस्ट इंग्लिश (reading and writing) और 2 टेस्ट मैथ्स के थे. इसका रिज़ल्ट न्यूनतम 400 अंकों से शुरू होकर 1600 तक 10-10 अंकों के इंटरवल पर काउंट किया जाता है.

परीक्षा के को-ऑर्डिनेटर यूएसए यूनिव-क्वेस्ट के संजीव कुमार पांडेय ने बताया, 'USA UnivQuest को इस होनहार स्टूडेंट पर नाज़ है. यह पहली बार है जब लखनऊ से कोई छात्र इतना स्कोर लेकर आया है. शुभ आगामी मई महीने में होने वाले AP टेस्ट के लिए तैयारी कर रहे हैं. ताकि वो अपनी काबिलियत को और निखार सकें और अधिक से अधिक स्कॉलरशिप हासिल कर सकें. USA UnivQuest की एक रिसर्च के अनुसार, अभी तक पूरी दुनिया में 1500 से भी कम स्टूडेंट्स 1590 के स्कोर तक पहुंच पाए हैं.

Feature Image Source: hindustantimes

Source: hindustantimes