अगर आपका बच्चा 10वीं क्लास के बोर्ड एग्ज़ाम में फ़ेल हो जाता, तो आप क्या करते? उसे मारते-पीटते, धमकाते या फिर ज़्यादा से ज़्यादा उसे खाना न दे कर सज़ा देते हैं. इसके बाद वो बच्चे डिप्रेशन में आ कर सुसाइड जैसा ख़तरनाक कदम उठा लेते हैं और फिर मां-बाप के पास रह जाते हैं, तो सिर्फ़ आंसू और मन में पछतावा कि काश हमने उसके साथ ऐसा कठोर बर्ताव न किया होता.

इसी के विपरीत एक पिता ऐसा भी है, जिसने बेटे के फ़ेल होने पर उसे डांटने और मारने के बजाए घर पर एक शानदार पार्टी आयोजित की. भले ही आपको ये सब सुनने में थोड़ा अटपटा लगे, पर सच्चाई यही है. ये अनोखी ख़बर भोपाल के सागर ज़िले की है, जहां ठेकेदार सुरेन्द्र कुमार व्यास ने 10वीं क्लास में बेटे के फ़ेल होने पर मोहल्ले में मिठाईयां बटवायीं. यही नहीं, शामियाना और पटाख़े जलाकर पूरे इलाके में ज़बरदस्त जश्न भी मनाया.

Source: Timesnownews
एक पिता को बेटे की नकामयाबी पर जश्न मनाते देख, मोहल्ले के सभी लोग हैरान थे. इस बारे में बात करते हुए सुरेन्द्र कुमार ने बतााया, 'मेरे इस तरह पार्टी करने का उद्देश्य सिर्फ़ अपने बेटे को मोटिवेट करना था. अकसर ऐसा होता है कि फ़ेल होने पर बच्चे सुसाइड का रास्ता अपनाते हैं और अपनी ज़िंदगी ख़त्म कर लेते हैं. मैं बस यही कहना चाहता हूं कि बोर्ड की परीक्षा ही ज़िंदगी की अंतिम परीक्षा नहीं होती है. ज़िंदगी में आगे बहुत सारे मौके आते हैं. मेरा बेटा अगर फ़ेल हुआ है, तो वो अगले साल फिर से परीक्षा दे सकता है.'
Source: Dotemirates
वहीं अपने पिता को इस तरह सपोर्ट करते देख उनके बेटे आशु ने कहा, 'मैं अपने पिता के इस कदम की सराहना करता हूं. इसके साथ ही मैं ये भी वादा करता हूं कि और भी मेहनत से पढ़ाई करते हुए अगले साल कहीं बेहतर नंबर लेकर आऊंगा.'

अगर दुनिया के सारे माता-पिता की सोच ऐसी हो जाए, तो शायद न ही कोई बच्चा पढ़ाई से जी चुराएगा और न ही आत्महत्या जैसा कदम उठाएगा.

Source : TOI