प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वकांक्षी प्रॉजेक्ट, स्वच्छ भारत अभियान की धज्जियां उड़ती नज़र आ रही हैं. अफ़सोस की बात ये है कि ऐसा कोई और नहीं, बल्कि ख़ुद उन्हीं के मंत्री जी कर रहे हैं.

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो अपलोड किया गया है, जिसमें महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और जल संरक्षण मंत्री राम शिंदे को सोलापुर बर्शी रोड पर खुले में पेशाब करते हुए देखा गया. घटना के बाद से सत्ताधारी बीजेपी सरकार लगातार विरोधियों के निशाने पर है. मामले में चारों ओर से ख़ुद को घिरता नज़र देख शिंदे ने अपनी सफ़ाई पेश करते हुए कहा, 'करीब एक महीने से मैं जलयुक्त शिवर योजना की समीक्षा के लिए लगातार यात्रा कर रहा हूं. उच्च तापमान और धूल के कारण मेरी हालत ठीक नहीं है और मैं काफ़ी बीमार चल रहा हूं.'

अपनी बीमारी का हवाला देते हुए उन्होंने ये भी कहा कि 'यात्रा के दौरान मुझे कोई टॉयलेट नहीं दिखाई दिया, जिस कारण मजबूरी में मुझे खुले में शौच करना पड़ा.'

वहीं राकांपा ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, 'राजमार्ग पर शौचालय नहीं मिलना, पीएम मोदी के स्वच्छ भारत अभियान की विफ़लता को दिखाता है.'

Source : Tv9 Marathi

यही बात शायद हर कोई समझाने की कोशिश कर रहा है कि स्वच्छ भारत अभियान की सफ़लता के लिए सबसे ज़रूरी टॉयलेट की सुविधा का होना है. आगरा टॉयलेट ही नहीं होंगे, तो मंत्री जी की तरह ही हर कोई यूं ही खुले में शौच करेगा. 

Source : Jansatta