जब RTI भारत में लाया गया था तब अधिकारियों ने ये कभी नहीं सोचा होगा कि उनके दफ़्तर में इस तरह की RTI आएगी.

एक शख़्स ने Central Information Commission को लिखकर भेजा,

'मेरा Blood Group मुझे बता दो.'

यही पता लगाने में Central Information Commission पिछले कुछ दिनों से व्यस्त है. राहुल चित्रा ने अलग-अलग टेस्ट करवाये और रिज़ल्ट में Blood Group भी अलग-अलग निकल आया.

Source- India Times

परेशान होकर राहुल ने Medical Council of India को RTI भेज दी. RTI के साथ रिपोर्ट्स की कॉपियां भी लगाईं.

कुछ टेस्ट्स में राहुल के ख़ून का Rh Factor Positive बताया गया, तो कुछ रिपोर्ट्स में Negative.

Rhesus(Rh) Factor एक तरह का प्रोटीन है, जो Red Blood Cells में पाया जाता है. अगर किसी व्यक्ति में ये प्रोटीन होता है, तो Rh Factor Positive होता है और अगर किसी में ये नहीं होता तो Rh Factor Negative होता है.

Rh Positive ज़्यादा Common ब्लड टाइप है.

MCI ने राहुल की RTI ख़ारिज कर दी. इसके बाद उसने Central Informationm Commission का दरवाज़ा खटखटाया.

राहुल की RTI के अनुसार उसने आगरा में 4 Pathology Labs और एक ज़िला अस्पताल में Blood Test करवाया.

Source- News X Ind

TOI की रिपोर्ट के अनुसार, कमीश्नर यशोवर्धन आज़ाद के सामने राहुल ने कहा,

दिल्ली के पंत अस्पताल में ख़ून की जांच करवाई, रिपोर्ट में Blood Group B Positive बताया गया. अगर एमरजेंसी में Blood Transfusion की ज़रूरत पड़ी तो मुझे किस Blood Group का ख़ून दिया जायेगा?

कमीश्नर यशोवर्धन ने मामले की गंभीरता को समझा. यशोवर्धन ने कहा,

राहुल चित्रा के Blood Group में Clarity नहीं है. ये एक गंभीर सवाल है कि एमरजेंसी में राहुल को किस Blood Group का ख़ून दिया जायेगा?

कमीशन ने मामले की ढंग से जांच करवाने का आश्वासन दिया है और AIIMS को सही जांच करने को कहा है.

Feature Image Source- Pinterest