आज एक सवाल है आपके लिए, क्या आप बता सकते हैं ऐसी जगह जहां महिलायें सुरक्षित हैं? कितनी शर्मनाक बात है कि आपके पास नहीं होगा इस सवाल का जवाब, जिससे आप ये दावा कर सकें कि उस समाज में जहां महिलायें पुरुषों के कन्धों से कन्धा मिला कर चल रहीं हैं, उसी समाज में आज भी महिलायें असुरक्षित हैं.

आज हम आपको सिंगापुर की एक घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें एक आदमी ट्रेन में बेखौफ़ और बेशर्मी के साथ एक लड़की का वीडियो बना रहा था.

सिंगापुर में रहने वाली एक युवती उमा माहेश्वरी ने मेट्रो में उसका वीडियो बना रहे एक शख़्स को रंगे हाथ पकड़ लिया. उमा ने अपनी फेसबुक वॉल पर उस व्यक्ति का वीडियो और फ़ोटो शेयर की है. सोशल मीडिया पर ये पोस्ट वायरल हो रही है. साथ ही लगभग 30 लाख से ज़्यादा लोग इस वीडियो को देख चुके हैं.

उमा ने अपनी पोस्ट में लिखा, 'ये घटना 13 मई की शाम उस वक़्त की है जब मैं आउट्रम से हार्बरफ्रंट अपनी दोस्त से मिलने जा रही थी और मैंने MRT (Mass Rapid Transit) ट्रैन बोर्ड की थी. तभी अचानक एक व्यक्ति मेरे सामने वाली सीट पर आकर बैठ गया. मैंने देखा कि वो आदमी अपना फ़ोन निकालकर ज़रूरत से ज़्यादा ऊंचाई पर हाथ से पकड़े हुए है. मुझे कुछ शक हुआ, तो मैंने उस आदमी के पीछे लगे शीशे पर ध्यान से देखा, शीशे में उस आदमी के मोबाइल का रिफ़्लेक्शन बन रहा था. जब मैंने ध्यान से देखा, तो मुझे पता चला कि वो मेरा वीडियो बना रहा है.

उसकी इस हरकत के सबूत के लिए मैंने भी अपने फ़ोन से उसकी रिकॉर्डिंग करनी शुरू कर दी. उसके बाद मैंने MRT Administration को इस बारे में बताया. कुछ ही मिनट में सिंगापुर पुलिस और MRT मेट्रो स्टेशन के ऑफ़िसर्स ने मेरी मदद की. इसके बाद उन्होंने लिखा कि जब उस आदमी को पकड़ा गया, तो वो माफ़ी मांगने लगा और मुझसे मिन्नतें करने लगा. माफ़ी मांगते हुए उसने मुझे अपनी बहन भी बना लिया. सभी महिलाओं को जागरुक करते हुए उमा लिखती हैं आप सभी सार्वजनिक जगहों पर चौकन्नी रहें और कभी भी ऐसी स्थिति आने पर उसी शिकायत करने से न डरें और किसी भी स्थिति को अपने ऊपर हावी न होने दें.

यहां देखिये उमा की पूरी पोस्ट:

ख़बरों के मुताबिक़, सिंगापुर पुलिस ने बताया कि पुलिस को मदद के लिए कॉल की गई थी. पुलिस ने उत्पीड़न से रोकथाम क़ानून के अंतर्गत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. वहीं उमा माहेश्वरी का कहना है कि मेरा मानना है कि उस व्यक्ति के मोबाइल में ऐसे ही कई और वीडियो भी होंगे. गौरतलब है कि अगर उमा की ये बात सच साबित हुई तो सिंगापुर के क़ानून के हिसाब से उस आदमी को महिला का अपमान करने या इसके प्रयास के लिए एक साल तक की जेल भी हो सकती है.