आज का सबसे बड़ा सवाल... Nation Wants to Know... 'सास-बहू सीरियल में आदमियों का क्या काम होता है?'

लो जी ये भी कोई पूछने की बात है, घर में जब भी किसी साज़िश का पर्दाफ़ाश होता है, तो लोगों के चेहरे का एक्सप्रेशन दिखाने के लिए उन्हें सबके बीच में खड़ा कर दिया जाता है. बस और क्या! नहीं... नहीं... इसके अलावा भी उनके बहुत महत्वपूर्ण काम होते हैं.

1. सूट-बूट पहन कर घर से ऑफ़िस जाना.

Source : Tellydhamaal

2. बिज़नेस हो या जॉब ये टाइम से घर वापस आते हैं, मतलब ज़रा भी देरी नहीं होती.

Source : blogspot

3. घर में बड़ी-बड़ी अनहोनियां हो जाती हैं, लेकिन इन्हें ख़बर तक नहीं होती.

Source : hotstar

4. शो में क्लाइमेक्स के दौरान लोगों के चेहरे फ़्रीज़ करके दिखाये जाते हैं, तो ये सेंटर में खड़े होते हैं.

Source : tellychakkar

5. कभी-कभी ये बीवी को सप्राइज़ देने के लिए किचन में खाना बनाते नज़र आ जाते हैं.

Source : ytimg

6. इनके पास काम करने का वक़्त हो न हो, लेकिन तलाक और शादी करने का बहुत टाइम होता है.

Source : jagranimages

7. घर में टेंशन के बीच ये बियर पीते भी नज़र आ जाते हैं.

8. अच्छा ये लोग न अपनी फ़िटनेस का भी काफ़ी ध्यान रखते हैं, सालों की लीप के बाद भी ये जवान ही नज़र आते हैं.

Source : dailypakistan

जनाब इसके अलावा, तो हमने सास-बहू सीरियल में मर्दो को कुछ और करते नहीं देखा. घर की बीवियां ही सारी परेशानियों को सुलझाती नज़र आती हैं. यही नहीं, वो ज़्यादा पढ़ी-लिखी न हो, तब भी मुसीबत के वक़्त पति का बिज़नेस हैंडल कर लेती हैं. अच्छा अब न हम सास-बहू सीरियल के इन पतियों से कुछ सवाल पूछना चाहते हैं, जिनका जवाब अगर मुनासिफ़ लगे, तो दे देना.

1. यार ऐसा कौन सा ऑफ़िस या बिज़नेस है, जो ये हर दिन टाइम पर काम ख़त्म करके 5 बजे ही घर आ जाते हैं?

Source : zemsib

2. एक ही छत के नीचे रह कर आपको घर में चल रही साज़िशें नहीं पता होती, ऐसा कैसे हो सकता है भाई?

Source : tellychakkar

3. ये हर टाइम सूट-बूट पहन कर कैसे घूम लेते हैं?

Source : static06

4. इतने सारे तलाक और शादियों को मैनेज कैसे कर लेते हो यार?

Source : hotstar

इसके अलावा सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिर सारे सास-बहू सीरियल्स के नाम महिला केंद्रित क्यों होते हैं, क्यों पुरुषों को सीरियल में इतना वेल्ला दिखाया जाता है? हमें बस एक ही नाराज़गी है कि कृपया सीरियल में पुरुषों को इतना खाली दिखा कर, पुरुष समाज की बेज्ज़ती न करें.

धिन ताना ना ना...धिन