कभी-कभी कुछ ऐसे किस्से सामने आ जाते हैं, जिन्हें सुनकर लगता है कि दुनिया में इंसानियत बची ही नहीं है. इस घटना को देखकर राजेश खन्ना की फ़िल्म का वो गाना याद आ गया,

नफ़रत की दुनिया को छोड़कर प्यार की दुनिया में ख़ुश रहना मेरे यार...इस गाने में एक लाइन थी, एक जानवर की जान आज इंसानों ने ली है...

Source: longreadsblog

ऐसा ही कुछ दिल्ली के पीतमपुरा इलाके में हुआ है. जहां राकेश सदीजा नाम के शख़्स ने, जो पेशे से ड्राइवर है, एक Puppy को अपनी गाड़ी से कुचल दिया. आपको बता दें कि Puppy की मौत Veterinary Hospital में ही हो गई. ये पूरी घटना उस एरिया के सीसीटीवी फ़ुटेज में कैद हो गई.

Source: indiatimes

सीसीटीवी फ़ुटेज के आधार पर उस एरिया की सुखमनी सेठी ने पुलिस में रिपोर्ट लिखाई. पुलिस ने ड्राइवर को गिरफ़्तार कर लिया था. मगर बीते शनिवार, ड्राइवर को ज़मानत पर छोड़ दिया गया है.

Source: thebalance

ऐसी हरक़त करने वाले ड्राइवर को ज़मानत पर छोड़ देना सही है?

Source: indianexpress

ऐसा क्यों होता है कि कुछ लोगों को महंगी-सी कार में बैठने के बाद पैदल चलने वाले इंसान या जानवर नहीं दिखते. वो ये क्यों भूल जाते हैं कि उन्होंने जिनको चोट पहुंचाई है, वो भी किसी की फ़ैमिली हैं?

Source: news18