Paul Gaylord नामक इस शख़्स को घर में बिल्ली पालना इतना मंहगा साबित हुआ, जिसकी शायद कल्पना भी नहीं जा सकती है. घर में पल रही एक बिल्ली ने एक झटके में Paul की ज़िंदगी तहस-नहस कर दी. दरअसल, Paul 'Black Death' नामक गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं. ये बीमारी इतनी भयानक और जानलेवा है कि इसकी वजह से इस शख़्स को 27 दिनों तक लाइफ़ सपोर्ट मशीन पर रहना पड़ा.

'Bubonic Plague' नाम की दुर्लभ बीमारी से ग्रसित होने के कारण Paul की Glands नीबूं के आकार के और उनके हाथ की उंगलिया काली पड़ गई थी. Paul की ज़िंदगी बचाने के लिए डॉक्टरों को उनके हाथ-पैरों की उंगलियों को काटना पड़ा.

60 वर्षीय Paul, Prineville से करीब 12 मील की दूरी पर रहते हैं. दर्दनाक हादसे के बारे में बात करते हुए वो बताते हैं कि 'जून 2012 में उनकी बिल्ली ने एक चूहे को दबाकर मुंह में रख लिया, जिसके बाद चूहा उसके गले में जा कर अटक गया. बिल्ली के जबड़े में अटके चूहे को देख कर, बिल्ली के मुंह में हाथ डाल कर चूहे को बाहर निकालना चाहा, लेकिन ऐसा करना उनके लिए काफ़ी घातक साबित हुआ और बिल्ली ने Paul को काट लिया, साथ ही Paul और उनका दोस्त चूहे को भी बाहर निकालने में असफ़ल रहे.

इसके बाद अचानक से Paul की ज़िंदगी में बदलाव आने लगे. शरीर का रंग ग्रे पड़ने लगा, गले में सूजन और बांहों के पास की ग्रंथियां नींबू के आकार की होने लगी. अस्पताल जाने पर पता चला कि उन्हें Bubonic Plague नामक गंभीर बीमारी है.

पीड़ित Paul ने अंत में बिल्ली को गोली मार कर उसे गार्डेन में जला दिया. Paul कहते हैं कि 'एक पल के लिए उन्हें विश्वास ही नहीं हुआ कि उनके साथ कुछ ऐसा भी हो सकता है. मैं ज़िंदगी को काफ़ी ज़िंदादिली के साथ जीने वाले लोगों में से एक हूं.'

करीब एक महीने तक हॉस्पिटल में रहने के बाद Paul अपने घर और काम पर वापस लौट चुके हैं, लेकिन उनकी ज़िंदगी अब पहले जैसी बिल्कुल नहीं रही.

क्या होता है Bubonic Plague?

Bubonic Plague दुनिया की सबसे पुरानी और दुर्लभ बीमारी है, जिसे 'Black Death' के नाम से भी जाना जाता है. मुख़्य रूप से रोग चूहों में पाया जाता है, जो कि पास्चुरेला पेस्टिस नामक जीवणु द्वारा उत्पन्न होता है. प्राचीन काल में किसी भी महामारी को 'प्लेग' कहते थे.

बताया जाता है कि इस विनाशकारी महामारी के कारण Eurasia में करीब 75 से लेकर 200 मिलियन लोगों की मौत हो गई थी.