21 सितंबर को 'मंटो' सिनेमा में देखी जा सकती है. उसके पहले फ़िल्म के बारे में जो कुछ भी दिख रहा है, उसे 'शानदार' कहा जाना चाहिए. कहानी, कैरेक्टर, एक्टिंग हर क्षेत्र पर बारीकी से काम किया गया है. आमतौर पर ऐसी फ़िल्मों के साथ होता है कि उनके गाने फीके पड़ जाते हैं, लेकिन नंदिता दास की 'मंटो' ने यहां भी कोई कमी नहीं छोड़ी.

फ़िल्म के तीन गाने रिलीज़ हो चुके हैं, तीनों कमाल हैं, लेकिन हम बात करेंगे सीधे तीसरे गाने की, 'Mantoiyat' की.

Montoiyat एक डायलॉग रैप सॉन्ग है. इसे रफ़्तार ने लिखा है और इसमें फ़िल्म के डॉयलॉग्स को रखा गया है, जिसे मंटों ने विभन्न संदर्भों में लिखा या कहा था.

रैप के लिरिक्स फ़िल्म के मिजाज़ के साथ जाते हैं. इसमें अपने अंदाज़ में आज की सच्चाई कही गई है.

इसको कंपोज़ भी रफ़्तार ने किया है. इसके नएपन को भी आप महसूस कर सकते हैं.

इसे रफ़्तार के अब तक के सबसे अच्छे गाने का दर्जा दिया जा सकता है.

पूरा गाना यहां सुन सकते हैं.