एक महिला के कई रूप होते हैं. इसीलिए उसकी शक्ति का आंकलन करना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. इसका ताज़ा उदाहरण 18 साल की एक लड़की है, जिसने मनचलों से डरने की बजाए, उन्हें ऐसा सबक सिखाया कि सब देखते रह गए.

दरअसल, पश्चिम बंगाल की रहने वाली प्रियंका अपनी छोटी बहन के साथ, कमारपा इलाके में स्थित दुकान से कुछ सामान लेने जा रही थी. इसी दौरान राह चलते तीन लड़के, उसके साथ छेड़खानी करने की कोशिश करने लगे. इतना ही नहीं, पहले बदमाशों ने उसका रास्ता रोका और फिर उनमें से एक ने उसका हाथ पकड़ लिया.

मनचलों की गिरी हुई हरकत देख प्रियंका ने पहले तो उन्हें शांति से समझाने का ख़ूब प्रयत्न किया, लेकिन जब वो नहीं माने तो उसने बीच चौराहे पर उनकी धुनाई शुरू दी. एक लड़की के हाथों मनचलों को पिटता देख, वहां मौजूद सभी लोग दंग रह गए.

वहीं इस मामले पर बात करते हुए प्रियंका के परिजनों ने बताया कि 'वो काफ़ी छोटी उम्र से ही मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग ले रही है और अब उसे इस कला का पूर्णता ज्ञान हो गया है, लेकिन शायद मनचलों को उसकी इस काबिलियत के बारे में जानकारी नहीं थी. इसीलिए जब उसके मना करने के बावजूद उन्होंने उसके साथ ज़बरदस्ती की, तो उसने तीनों की पिटाई कर दी.'
Source : Jansatta
एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि 'हंगामे की आवाज़ सुनकर हम सभी उस रास्ते की ओर भागे और देखा कि तीनों मनचले ज़मीन पर गिरे पड़े हुए थे.' इसके साथ ही घटनास्थल पर मौजूद लोगों से प्रियंका ने कहा कि 'इन लोगों को इनकी ग़लती की सज़ा मिली है.'

घटना बीते मंगलवार की है. वहीं अमित साहनी, दीप मंडल और भास्कर मंडल नामक तीनों आरोपी पुलिस की गिरफ़्त में हैं.

प्रियंका ने जिस तरह बहादुरी और आत्मविश्वास के साथ तीनों बदमाशों को सबक सिखाया, वो हम सभी के लिए प्रेरणादायक है. औरत अगर जननी है तो ज्वाला भी है. आज के ज़माने में हर महिला को ज़रूरत है कि वो अपनी आत्मसुरक्षा के लिए मार्शल आर्ट्स सीखे.

Source : Hindustantimes