लोगों तक सस्ती दवाओं को पहुंचाने के लिए सरकार के साथ-साथ अब रेल मंत्रालय ने भी अपनी कमर कस ली है. प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना में अपनी भागीदारी दर्ज़ कराने के लिए रेलवे ने अपने परिसर के दरवाजे खोल दिए हैं.

रेलवे के इस फ़ैसले के बाद लोगों को सस्ती दरों पर दवाएं उपलब्ध हो सकेंगी. इसके लिए रेलवे ने औषधि विभाग के साथ एक समझौता किया है, जिसके बाद रेलवे स्टेशन और प्लेटफॉर्म्स सहित रेल परिसरों में दवाओं की दुकानें खोली जायेंगी.

इस बाबत रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि 'इसका उद्देश्य रेलवे कर्मचारियों सहित लोगों को सस्ती दर पर दवाएं मुहैया करवाना है.'