ये ज़रूरी नहीं कि महिलाओं की बात सिर्फ़ आज ही के दिन की जाए लेकिन आज उनकी बात होगी ये ज़रूरी है.

हम उन महिलाओं की बात करेंगे जो पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत हैं, जिन्होंने अपने कार्यक्षेत्र में उपलब्धियों के झंडे गाड़े हैं. उनकी पहचान उनका काम है.

विभिन्न क्षेत्रों की इन सशक्त नामों को आप जानते हैं?

1. रौशनी शर्मा

Source: tripoto

रौशनी शर्मा ने पहली बार बाईक 16 साल की उम्र में चलाई थी, लेकिन वो सिर्फ़ मस्ती और मौज के लिए ऐसा नहीं करती थी. उनका मक़सद महिलाओं से जुड़े स्टीरियोटाईप्स को तोड़ना था. इसके लिए उन्होंने भारत के एक छोर से दूसरे छोर तक अकेले बाइक से सफ़र किया. इस बीच 11 राज्यों को लांघा, सैकड़ों नदियां बीच में आई और कई सामाजिक बेड़ियों को तोड़ा. ऐसा करने वाली वो देश की पहली और अकेली महिला बनीं.

2. शीला दावरे

Source: thebetterindia

जब शीला घर छोड़ कर पूणे गईं थी, तब उनके एक हाथ में 12 रुपये थे और दूसरे में ढेर सारी हिम्मत. पुणे में सभी ऑटो चालक पुरुष थे और ख़ाकी वर्दी पहनते थे. सिर्फ़ पुरुष ही ऑटो चलाते थे. जब शीला ने पहली बार ऑटो का स्टेयरिंग को अपने हाथों में लिया, तो उन्हें भी नहीं पता था कि ऐसा करने वाली वो पहली महिला थीं. उन्हें तो बस स्वावलंबी बनना था और अपनी ज़िंदगी अपनी शर्तों पर जीनी थी.

3. अरुनिमा सिन्हां

Source: patrika

अरुनिमा राष्ट्रीय स्तर की वॉलीबॉल खिलाड़ी थी. 2011 में एक ट्रेन हादसे में उनकी एक टांग घुटने के नीचे से कट गई, मगर ज़िंदगी जीने के हौसले पर रत्तीभर भी ख़रोच नहीं आई. जहां साधारण इंसान ऐसी घटनाओं के बाद सभी उम्मीद को खो बैठता है. अरुनिमा ने ठाना कि वो सभी महादेशों की सबसे बड़ी चोटियों को फ़तह करेंगी और भारत का झंडा फ़हराएंगी. अभी तक वो 6 चोटियों को तिरंगे से सजा चुकी हैं.

4. मिताली राज

Source: india

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कैप्टन मिथाली राज के नाम के साथ कई रिकॉर्ड जुड़े हैं. अगर उन सब के ऊपर एक वाक्य भी लिखा जाए तो, आपके लिए पढ़ना मुश्किल हो जाएगा. मिथाली वो क्रिकेटर हैं जिनकी नेतृत्व में भारतीय टीम दो बार वर्ल्डकप की फ़ाइनल में पहुंची. मिताली महिला श्रेणी में अब तक सबसे ज़्यादा रन स्कोर कर चुकी हैं. उन्होंने लगातार 109 एकदिवसीय मैच भारत के लिए खेले हैं और ये अपने आप में एक रिकॉर्ड है.

5. मैरी कॉम

Source: bharat ki nari bharat kishan

इस भारतीय बॉक्सर और मेडल के बीच आपसी समझ विकसित हो चुकी है. मैरी कॉम जब भी रिंग में उतरती हैं अपने साथ मेडल ज़रूर ले जाती है. ओलंपिक, वर्ल्ड चैंपियनशिप, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियाड, नेशनल गेम्स और क्या नहीं. इन सब के मेडल मैरी कॉम की झोली में है. कई मेडल ऐसे भी हैं, जिन्हें उन्होंने मां बनने के बाद जीता है. ये अपने आप में भी एक मिसाल है.

6. हिमा दास

Source: firstpost

एक वक़्त वो भी था जब हीमा के पास प्रैक्टिस करने के लिए सही नाप के जूते नहीं थे, आज एक वक़्त ये भी है कि दुनिया की सबसे बड़ी जूतों की कंपनी उनके नाम से जूते लॉन्च कर रही है. विपरीत हालात में भी जब हिमा ने ट्रैक पर अपने पैर रखे, मेडल ही जीता है. वर्तमान में हीमा 200 मीटर दौड़ में राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक हैं. वो भारत की पहली महिला हैं, जिसने IAAF World U20 Championship में गोल्ड मेडल जीता है.

7. अवनी चतुर्वेदी

Source: prabhatkhabar

मध्यप्रदेश के एक छोटे से और पिछड़े ज़िले में पैदा हुई अवनी के सपने कतई छोटे नहीं थे. उसे ऊंचा उड़ना था, लंबा उड़ना था. साल 2016 में अवनी चतुर्वेदी को दो अन्य महिला साथियों के साथ एयर फ़ोर्स के Fighter Squadron के लिए चुना गया. 2018 में उनकी ट्रेनिंग पूरी हूई और MiG-21 चलाने के साथ ही वो भारत की पहली सोलो महिला फ़ाइटर पाइलट बन गईं.

8. करुणा नंदी

Source: funwithprince

जहां उनके पास अमेरिका या इंग्लैंड में बड़े आराम से वकालत करने की सहूलियत थी, वहां उन्होंने काम करने के लिए भारत को चुना. संयुक्त राष्ट्र को भी अपनी सेवा दे चुकी करुणा नंदी भारत में वो केस लड़ती हैं, जिनके लिए कोई खड़ा नहीं होता. भोपाल गैस त्रासदी हो या दिल्ला का निर्भया रेप केस, वो करुणा नंदी है, जिन्होंने असहायों की आवाज़ को मज़बूती से कोर्ट में रखा.

9. रश्मी बंसल

Source: yourstory

इनकी पहचान एक लेखक और युवाओं के मुद्दों के विशेषज्ञ की है. अभी तक इनकी लिखी पांच किताब छप चुकी हैं. उसमें से सबसे ज़्यादा प्रसिद्धी Stay Hungry Stay Foolish को मिली है. इस किताब को अंतरराष्ट्रीय स्तर के समिक्षकों ने सराहा है और कई भाषाओं में इसका तर्जुमा हुआ है.