चोर और पुलिस के खेल में जीत हमेशा पुलिस की ही होती है, फिर चोर चाहे कितनी ही होशियारी क्यों न दिखा ले. ऐसा ही एक किस्सा मुंबई से भी सामने आया. दरअसल, जुहू निवासी 54 वर्षीय एक शख़्स 15 सालों से पुलिस को चकमा देता फिर रहा था. उसने पुलिस से बचने के लिए कई अजीबोगरीब तरकीबें अपनाई, लेकिन आखिरकार पुलिस ने उसे खोज निकाला और गिरफ़्तार कर लिया.

बताया जा रहा है कि पुलिस की गिरफ़्त से बचने के लिए व्यक्ति वॉशिंग मशीन में छिपा हुआ था. वहीं जब पुलिस मनोज तिवारी नामक शख़्स को अरेस्ट करने के लिए उसके घर पहुंची, तो आरोपी की पत्नी और उसके वकील ने पुलिस को घर की तलाशी से लेने से मना कर दिया. इसके बाद पुलिस करीब तीन घंटे तक आरोपी का घर के बाहर इंतज़ार रही.

तीन घंटे के लंबे इंतज़ार के बाद आखिरकार पुलिस किसी तरह आरोपी के घर के अंदर जाने में कामयाब रही और छानबीन के दौरान वो वॉशिंग मशीन में कपड़ों के नीचे छिपा मिला. पुलिस के मुताबिक, साल 2002 में आरोपी मनोज ने तीन लोगों से धोख़ाधड़ी कर करीब 1-1 लाख रुपये की ठगी की थी. ये ठगी उसने बीएड में दाखिला दिलाने के नाम पर की थी, जिसके बाद से वो लोगों के पैसे लेकर फ़रार हो गया.

मामले पर बात करते हुए आज़ाद मैदान पुलिस स्टेशन के वरीष्ठ पुलिस निरीक्षक वंसत खरे ने बताया कि अदालत से आरोपी को भगोड़ा घोषित किए जाने के बाद से पुलिस लगातार उसकी तलाश कर रही थी. वहीं सरकारी काम में दखल देने के जुर्म में आरोपी की पत्नी के ख़िलाफ़ भी शिकायत दर्ज की गई.

Source : india